बरगद के पेड़ पर निबंध Essay on banyan tree in hindi

Essay on banyan tree in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं बरगद के पेड़ पर निबंध तो चलिए बरगद के पेड़ पर निबंध लिखने की तैयारी शुरू करते हैं।

Essay on banyan tree in hindi
Essay on banyan tree in hindi

बरगद का पेड़ एक ऐसा पेड़ होता है जो दीर्घायु होता है यानी यह कई सालों तक जीवन जीता है। लंबे समय तक हम और हमारा परिवार इसे आसपास देखते हैं, यह बरगद का वृक्ष कई अन्य नामों से भी जाना जाता है, इसे बड़ या वट वृक्ष भी कहते हैं। बरगद का पेड़ राष्ट्रीय पेड़ भी कहलाता है, इस पेड़ का बहुत बड़ा आकार होता है इसी वजह से यह लोगों को छाया देने का कार्य करता है। बरगद का पेड़ विशालकाय होता है इसलिए इसकी जड़ें आसपास कई दूरी तक फैली होती हैं।

इस वृक्ष का तना चिकना एवं भूरा होता है। बरगद का पेड़ एक ऐसा पेड़ होता है जिसका उपयोग कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। यह बृक्ष हम सभी के लिए ईश्वर का एक वरदान की तरह है। बरगद के पेड़ पर कई जीव जंतु, पशु पक्षी अपना निवास स्थान बनाकर बड़े ही सुख शांति से रहते हैं। बरगद के पेड़ की पत्तियों का आकार अंडाकार होता है, इनकी ऊपरी सतह चमकदार सी होती है।

बरगद का वृक्ष एक ऐसा वृक्ष है जिसका काफी महत्व होता है। हिंदू धर्म में महिलाएं इस वृक्ष के आसपास पूजा भी करती हैं, कहते हैं कि बरगद के पेड़ में ईश्वर का वास होता है। बरगद का पेड़ भारत के अलावा बांग्लादेश एवं पाकिस्तान जैसे देशों में भी पाया जाता है, इस पेेड को लोग अपने घरों, मंदिरो में लगाना बेहद पसंद करते हैं क्योंकि यह पेड़ आसपास के क्षेत्र में छाया प्रदान करता है, महिलाएं इस वृक्ष के नीचे पूजा आराधना करती हैं, कई धर्म पुराणों में इस बरगद के वृक्ष के बारे में बताया जाता है।

बरगद के फल होते हैं इसे लोग खाना पसंद भी करते हैं, इसके फल लाल रंग के होते हैं, इन फलों के अंदर एक बीज भी होता है। बरगद का वृक्ष एक ऐसा वृक्ष होता है जो ज्यादातर गांवों में होता ही है अक्सर गांव के लोग इस वृक्ष के नीचे बैठना पसंद करते हैं। कई तरह की सभाएं भी इस वृक्ष के नीचे होती हैं, फिल्मों में भी हम बरगद के वृक्ष के नीचे सभाएं होते हुए देखते हैं।

दोस्तों मेरे द्वारा लिखा यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं, हमारे आज के इस आर्टिकल को अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूलें और हमें सब्सक्राइब जरूर करें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *