हाथी और चूहा Elephant and rat story in hindi

Elephant and rat story in hindi

दोस्तों काफी समय पहले एक जंगल में हाथियों का झुंड रहता था लेकिन उस जंगल में समय के साथ सूखा पड़ने लगा जंगल के हाथी पानी की तलाश में इधर उधर भटकने लगे तभी हाथियों की नजर पक्षियों के एक झुण्ड पर पड़ी उन्होंने सोचा हो सकता है यह पक्षी पानी की तलाश में गए हो और वहां पर पानी हो ऐसा सोचकर जंगल के हाथी वहां से दूर जाने लगे जैसे ही वह पक्षियों के झुंड के पीछे पीछे पहुंचे तो उन्हें एक नदी मिली जिससे उन्होंने अपनी प्यास बुझाई और हाथियों का झुंड नदी के समीप ही रहने लगा

लेकिन नदी के किनारे और उनके रहने के स्थान के बीच में जो रास्ता था उसमे चूहों का बसेरा था जिस वजह से कुछ चूहे हाथियों के पैर के नीचे दबकर मारे गए थे इससे चिंतित होकर चूहों के सरदार ने हाथियों से बात करने का फैसला किया और कहा की आपके पैरों के नीचे दबकर हमारे बहुत से चूहे साथियों की मृत्यु हो गई है आप कृपया कर पास में दूसरी नदी के पास चले जाएं इसके बदले में हमारी कभी भी आपको जरूरत पड़ेगी तो हम आपकी मदद करेंगे.

Elephant and rat story in hindi
Elephant and rat story in hindi

ऐसा सुनकर हाथी वहां से चले गए और दूसरी नदी के किनारे पर जाकर बसने लगे वहां पर उन्हें किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा था लेकिन एक दिन हाथियों का झुंड कहीं जा रहा था कि रास्ते में एक गड्डे में कुछ हाथी गिर गए इतने में ही हाथियों को वहां पर शिकारी के आने की आवाज आई तभी एक हाथी का बच्चा चूहों की मदद लेने के लिए उनके पास गया उनमें से कुछ चूहे हाथी के बच्चे के साथ आए और उन्होंने देखा कि शिकारियों ने उनके हाथी साथियों को गड्डे से बाहर निकालकरपर बड़ी-बड़ी रस्सीयो से बांध दिया है.

कुछ समय बाद जब शिकारी हाथियों को रस्सी से बांधकर ले गए तो उन्होंने रस्सियों को कतर दिया और वह हाथी मुक्त हो गए इसके बाद सभी हाथियों ने चूहों का धन्यवाद किया.दोस्तों इसलिए कहते हैं की हमें हर किसी की मदद करना चाहिए, दूसरों के बारे में अच्छा सोचना चाहिए क्योंकि जब हम ऐसा करते हैं तो सामने वाले भी हमारी कभी ना कभी मदद करते हैं.

Related- टोपीवाला और बंदर Topiwala aur bandar short story in hindi

दोस्तों अगर आपको हमारी कहानी Elephant and rat story in hindi पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना न भूले और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा.अगर आप चाहें हमारे अगले आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाना तो हमें सब्सक्राइब जरूर करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *