शहरी जीवन बनाम ग्रामीण जीवन निबंध city life vs village life essay in hindi

city life vs village life essay in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं शहरी जीवन बनाम ग्रामीण जीवन पर निबंध । इस निबंध में हम आपको बताएंगे कि गांव और शहर में जो व्यक्ति रहते हैं वह अपना जीवन यापन किस तरह से करते है एवं कौन-कौन सी सुविधाएं शहर के व्यक्ति के पास उपलब्ध होती है और गांव के व्यक्ति को वह सुविधा लेने के लिए कितनी समस्याओं का सामना करना पड़ता है । यह सब हम हमारे आज के इस आर्टिकल में पढेंगे।

city life vs village life essay in hindi
city life vs village life essay in hindi

हमारे भारत देश के लोग राष्ट्र भावना रखते हैं और हर व्यक्ति के दिल में राष्ट्र भावना होती है । हमारे देश में सबसे अधिक गांव हैं । हमारे भारत की जितनी आबादी का एक बड़ा हिस्सा गांव में निवास करता है। गांव हमारे देश की शान हैं ।गांव और शहर हमेशा एक दूसरे के पूरक रहे हैं। शहरों के लोग अपने जीवन को जीने के लिए प्रतिदिन संघर्ष करते है । वह कई तरह की सुख सुविधा प्राप्त करने के लिए दिन भर भाग दौड़ करते रहते है वह अपने परिवार को सुख सुविधा देने के लिए दिन भर मेहनत करता रहता है। उसे 1 सेकंड का भी आराम नहीं मिल पाता है। वह अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए, बच्चों को अच्छे कपड़े पहनाने के लिए ,बच्चों को अच्छा खाना खिलाने के लिए मेहनत करता रहता है। शहर के जो लोग होते हैं वह प्रदूषण की चपेट में रहते हैं।

शहर में लाखों गाड़ियां चलती है उन गाड़ियों से धुंआ निकलता है उससे हमारे आसपास का वातावरण प्रदूषित होता है और शहर का व्यक्ति उस प्रदूषण से बीमार हो जाता हैं । अब हम बात करते हैं गांव की गांव में शुद्ध और अच्छा वातावरण होता है । गांव के लोगों को फसल की पैदावार बढ़ाने के लिए बड़ी मेहनत करनी पड़ती है । वह फसल को बढ़ाने के लिए ठंड के समय में भी सुबह उठकर खेतों में पानी डालता है । गांव मैं शोर शराबा और प्रदूषण नहीं होता है । वहां के लोग सुख शांति व शुद्ध बताबरण प्राप्त करते हैं । गांव के अधिकतर लोगों को बीमारियां नहीं होती हैं । जबकि शहर बीमारियों की चपेट में होता है । शहरों में कई तरह की सुविधाएं मिलती हैं । शहरों में 24 घंटे लाइट आती है जबकि गांव में लाइट कम आती है । गांव के व्यक्ति फसल कटने के बाद अपना मनोरंजन तरह तरह के खेल खेलकर करते हैं । शहर के व्यक्ति को मनोरंजन करने के लिए समय ही नहीं मिलता है ।

शहरों में शहरी व्यक्ति के बच्चों के लिए अच्छे-अच्छे स्कूल होते हैं जहां से वह शिक्षा प्राप्त करता है और आगे बढ़ता है । गांवों में सरकारी स्कूल ही होते हैं अगर गांव के व्यक्ति को अपने बच्चे को पढ़ाना है तो वह शहर में भेज कर उसको शिक्षा दिलाता है । गांव के व्यक्ति को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है । गांव का व्यक्ति बरसात में टूटे मकानों में पानी बहने के कारण परेशान रहता है । शहरों के व्यक्ति हमेशा ट्राफिक से परेशान रहता हैं यदि वह किसी सिग्नल पर फंस गया तो 10 से 15 मिनट तक उनको सिग्नल खुलने का इंतजार करना पड़ता है । बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण जगह जगह पर जाम का सामना भी शहर के व्यक्ति को करना पड़ता है । शहर के व्यक्ति के पास कई तरह की सुख सुविधाएं उपलब्ध हैं लेकिन फिर भी वह परेशान रहता है । गांव का व्यक्ति कभी भी टेंशन नहीं लेता है वह अपने जीवन को बड़ी मस्ती के साथ जीता है । उसे ना तो प्रदूषण का सामना करना पड़ता है और ना ही ध्वनि प्रदूषण का सामना करना पड़ता है ।

दोस्तों यह आर्टिकल शहरी जीवन बनाम ग्रामीण जीवन पर निबंध city life vs village life essay in hindi आपको पसंद आए तो सब्सक्राइब जरूर करें धन्यवाद।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *