बाल विवाह पर भाषण child marriage speech in hindi

child marriage speech in hindi

दोस्तों कई समारोह में बाल विवाह पर भाषण देने के लिए आपको कहा जा सकता है इसके लिए हम बाल विवाह पर यहां पर एक भाषण प्रस्तुत कर रहे हैं आप यहां से अच्छी तैयारी कर सकते हैं चलिए पढ़ते हैं हमारे आज के इस भाषण को

child marriage speech in hindi
child marriage speech in hindi

बाहर से पधारे अतिथि गण एवं मेरे साथियों नमस्कार, मैं कमलेश कुशवाह आप सभी का इस समारोह में स्वागत करता हूं। दोस्तों मुझे बहुत ही अच्छा लगा कि आज के इस विशाल कार्यक्रम में आपने मुझे कुछ कहने के लिए यहां पर बुलाया इसके लिए मैं आप सभी का धन्यवाद करता हूं। दोस्तों आज हम बाल विवाह के विषय पर चर्चा करेंगे।

बाल विवाह आज के जमाने में एक ऐसा अपराध है जिससे हर किसी को बचना चाहिए। हमारे भारत देश में एक समय था जब अधिकतर मां बाप अपने बच्चों की कम उम्र में ही शादी कर देते थे क्योंकि वह अपने बच्चों को कई सामाजिक विकृतियों से बचाना चाहते थे। पहले के समय में लड़कियों का अपहरण, उनके साथ कई तरह के कुकृत्य के कारण मां-बाप बाल विवाह करने पर मजबूर हो गए थे।

बाल विवाह के और भी कई कारण हैं लेकिन प्रमुख यही है । धीरे-धीरे लोगों की सोच में बदलाव आने लगा और हर कोई बाल विवाह के प्रति आवाज उठाने लगा। हमारे देश के कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने बाल विवाह के प्रति आवाज उठाई एवं हमारे देश को, देश के बच्चों को इस सामाजिक विकृति से निकालने की कोशिश की। मेरे प्रिय साथियों आज 20 वी सदी आ चुकी है इस आधुनिक युग में हम सभी बदल रहे हैं। आज बाल विवाह जैसी कुप्रथा बहुत ही कम देखने को मिलती है।

आजकल लड़के व लड़कियां पढ़े-लिखे अधिकतर होते हैं जिस वजह से वह इन विकृतियों के खिलाफ आवाज उठाते हैं। आजकल गांव के लोग भी बाल विवाह के प्रति जागरूक हो गए हैं और इसके खिलाफ आवाज उठाते हैं लेकिन आज भी हमारे देश में कई गांव के ऐसे लोग हैं जो बाल विवाह के लिए अपने बच्चों को उस परेशानी में पहुंचा देते हैं जिसके वजह से लड़के एवं लड़कियों का पूरा भविष्य अंधकारमय हो जाता है।

प्रिय साथियों आज हम सभी को ऐसे लोगों को जागरूक करने की जरूरत है हमारा मकसद यह होना चाहिए कि हम सभी बाल विवाह को हमारे देश से, हमारे समाज से पूरी तरह से दूर करे। हम सभी को आज शपथ लेनी चाहिए कि हम हर उस विकृति को हमारे देश और समाज से बाहर निकालेंगे जिन विकृतियों से हमारा देश पीछे रहता है। प्रिय साथियों इन्हीं शब्दों के साथ में आप सभी को धन्यवाद देता हूं कि आपने मुझे इतने समय तक सुना।

दोस्तों यदि आपको हमारा यह भाषण पसंद आया हो तो हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब करें जिससे नए-नए शिक्षाप्रद आर्टिकल आपको पढ़ने को मिल सके।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *