ब्रह्मकुमारी शिवानी की जीवनी brahma kumaris shivani biography in hindi

brahma kumaris shivani biography in hindi

दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से ब्रह्मकुमारी शिवानी के जीवन के बारे में जानेंगे . चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस लेख को पढ़ते हैं . इस लेख को पढ़कर ही हम शिवानी जी के जीवन के बारे में  जान पाएंगे .

brahma kumaris shivani biography in hindi
brahma kumaris shivani biography in hindi

जन्म स्थान व् परिवार – ब्रह्मकुमारी शिवानी का वास्तविक नाम शिवानी वर्मा है . ब्रह्मकुमारी शिवानी का जन्म 19 मार्च 1972 को भारत के महाराष्ट्र के पुणे में हुआ था . उनके माता-पिता धार्मिक प्रवृत्ति के है . उनके माता-पिता इनको बहुत प्रेम करते है . ब्रह्मकुमारी शिवानी को अपने माता पिता से प्रारंभिक धार्मिक ज्ञान प्राप्त हुआ है. ब्रह्मकुमारी शिवानी के  माता-पिता ने ब्रह्मकुमारी शिवानी को अच्छे संस्कार दिए और धार्मिक ज्ञान दिया था . ब्रह्मकुमारी शिवानी जी ब्रह्मकुमारी संस्थान में अध्यात्मिक प्रवचन देती हैं .

ब्रह्मकुमारी शिवानी के  प्रवचन को सुनकर काफी लोग अपने जीवन को सफल बनाते हैं . उनका कार्यक्रम देश के साथ साथ विदेशों में भी देखा जाता है . ब्रह्म कुमारी शिवानी जी अपने विचारों से लोगों को ज्ञान देती हैं . उनका ज्ञान प्राप्त करके कई  लोग अपने जीवन को सफल बनाते हैं . ब्रह्मकुमारी शिवानी जी का विवाह विशाल वर्मा से हुआ है .

शिक्षा – ब्रह्मकुमारी शिवानी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पुणे से ही प्राप्त की है . प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद ब्रह्मकुमारी शिवानी पुणे से इलेक्ट्रॉनिक और संचार विषय से   बीटेक की पढ़ाई करने लगी थी . ब्रह्मकुमारी शिवानी ने पुणे के महाविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई पूरी की थी . ब्रह्मकुमारी शिवानी ने 1994 में पुणे यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियर में स्नातक किया था .

ब्रह्मकुमारी अध्यात्मिक जीवन – शिवानी वर्मा  अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने माता पिता के साथ  ब्रह्मकुमारी संस्थान में प्रवचन सुनने के लिए अक्सर जाया करती थी . वह अपने सभी कामों को छोड़कर प्रवचन सुनने के लिए  अवश्य जाती थी . वह सभी प्रवचनो को बड़े ध्यान से सुनती थी . ब्रह्मकुमारी संस्थान में प्रवचन सुनकर उनके जीवन में बदलाव आया और 1995 में शिवानी वर्मा ब्रह्मकुमारी संस्थान से जुड़ गई थी .

जुड़ने के बाद वह प्रवचन देने लगी  और सभी को उनके प्रवचन एवं उनके विचार अच्छे लगने लगे थे . ब्रह्मकुमारी संस्थान की स्थापना दादा लेखराज कृपलानी ने की थी . इस संस्था को लोगों की भलाई के लिए प्रारंभ किया गया था . यह संस्थान  लोगों के लिए कल्याण का  कार्य करती है . इस संस्था के संस्थापक को आज  हम प्रजापिता ब्रह्मा के नाम से जानते हैं . इन्होंने ही 1936 में मानव कल्याण के लिए इस संस्था की नींव रखी थी .

इस संस्था का सबसे बड़ा मुख्यालय भारत के माउंट आबू में स्थित है . इस संस्था की शाखा सभी जिलों में स्थित है . इस संस्थान के माध्यम से लोगों तक शुभ विचार पहुंचाए जाते हैं . ब्रह्मकुमारी शिवानी के  प्रवचनों को सुनकर काफी लोगों के जीवन में उजाला आया है . जो  व्यक्ति अपने जीवन को बोझ समझता था आज उसके जीवन में ब्रह्माकुमारी शिवानी के प्रवचन  सुनकर उजाला ही उजाला हुआ है . लाखों-करोड़ों लोग टीवी पर ब्रह्मकुमारी शिवानी के प्रवचनो को सुनते हैं और अपने जीवन को सफल बनाते हैं .

ब्रम्हाकुमारी शिवानी की प्रमुख पुस्तकें – ब्रह्मकुमारी शिवानी ने लोगों की भलाई के लिए एवं मानव कल्याण के लिए अपने विचारों को एक पुस्तक में व्यक्त किया है और उस पुस्तक का नाम असीम आनंद की ओर है .

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल ब्रह्मकुमारी शिवानी की जीवनी brahma kumaris shivani biography in hindi आपको अच्छी लगे तो शेयर अवश्य करें धन्यवाद .

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *