बिल्ली को शेर की मौसी कहा जाता है निबन्ध Hindi essay on billi ko sher ki mausi kahan jate hai

Hindi essay on billi ko sher ki mausi kahan jate hai

दोस्तों नमस्कार, कैसे हैं आप सभी आज हम आपके लिए लाए हैं बिल्ली को शेर की मौसी कहा जाता है पर हमारे द्वारा लिखित यह निबंध आप इसे जरूर पढ़ें तो चलिए पढ़ते हैं आज के इस निबंध को

Hindi essay on billi ko sher ki mausi kahan jate hai
Hindi essay on billi ko sher ki mausi kahan jate hai

बिल्ली को शेर की मौसी कहा जाता है यह हम काफी समय से जानते हैं, अब ऐसा क्यों कहा जाता है यह हम कुछ हद तक समझ सकते हैं। बिल्ली जो कई तरह की होती है यह जंगली या घरेलू बिल्ली हो सकती है। बिल्ली जो कि एक कुत्ते से भी छोटे आकार की होती है जो अक्सर हमें घरों में घूमते हुए भी दिखती है दरअसल उसके शरीर का आकार शेर के समान होता है, बिल्ली का रंग रूप शेर जैसा होने के कारण ही उसे शायद शेर की मौसी कहा जाता है।

कहते हैं कि बिल्ली बहुत ही चतुर और चालाक होती है, छोटी सी बिल्ली चालाक होती है इसी वजह से भी उसे शेर की मौसी कहां जाता है। शेर जो कि काफी बड़ा लगभग 1 मीटर ऊंचा और 2 मीटर लंबा होता है वह काफी खूंखार और खतरनाक होता है यह चितकबरा होता है। बिल्ली और शेर की प्रजाति लगभग एक ही होती है, किताबों में भी यह समझाया गया है।

इसके अलावा हम देखते हैं कि बिल्ली और शेर दोनों के दांत बहुत ही नुकीले  होते हैं  जो किसी भी जीव जंतु, मनुष्य  के शरीर में एक सुई की भांति चुभ जाते हैं। शेर की प्रजातियां भारत, अफ्रीका जैसे देशों में भी पाई जाती हैं अक्सर सर्कस के कई लोग शेर की प्रजाति के जानवरों को बंधक बनाकर उन्हें अपने इशारों पर चलाते हैं। शेर, चीता आदि ऐसे जानवर हैं जो इसी बिल्ली की प्रजातियों के माने जाते हैं लेकिन शेर चीता काफी खतरनाक होते हैं।

हम सभी उनसे काफी डरते भी हैं लेकिन बिल्ली अक्सर हमारे घरों में चारों ओर घूमते हुए भी दिखती है। बिल्ली भले ही छोटी होती है लेकिन बड़ी ही चालाक मानी जाती हैं। बिल्ली और शेर में कई सारी समानताएं होती हैं इसी वजह से भी बिल्ली को शेर की मौसी कहा जाता है।

मेरे द्वारा लिखा यह निबंध आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं इसी तरह के आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *