बड़ो का सम्मान पर निबंध Bado ka samman essay in hindi

Bado ka samman essay in hindi

हेलो दोस्तों केसे हो,दोस्तों आज का हमारा टॉपिक है bado ka samman essay in hindi दोस्तों आज का हमारा ये topic बहुत ही ख़ास है आज कल हम चारो तरफ देख रहे है की जमाना बहुत ही तेजी से बदल रहा है इसी के साथ में इस ज़माने में लोगों की सोच में बहुत तेजी से बदलाब आ रहे है,बदलाव के इस जमाने में अगर हमको आगे बढना है तो हमें बड़ो का सम्मान करना सीखना होगा.

अगर आप अपनी जिन्दगी में कुछ बड़ा करना चाहते है और आपको बड़ो का सम्मान करना नहीं आता है तो आप जिन्दगी में कुछ भी खास नहीं कर पाओगे और इतना ही नहीं आपकी पूरी जिन्दगी तवाह हो सकती है और आप हमेशा निंदा के शिकार होंगे, कोई भी आपको नहीं पूछेगा और आपके परिवार में निरंतर झगडे होंगे.

Bado ka samman essay in hindi
Bado ka samman essay in hindi

मेने देखा है की आज के ज़माने में बहुत सारे लोग पढाई करते है लेकिन कुछ लोगो को बड़ो का सम्मान जेसे की गुरु,माता पिता,अपने से बड़े लोगो का सम्मान करना नही आता तो सोचने वाली बात ये है की इस पढ़ाई का मतलब क्या है,हम शुरू से ही किताबो में पढ़ते है की हमे बड़ो का सम्मान करना चाहिए,अगर आप उसे फॉलो नहीं करते हो तो ये पक्का है की आपकी इस पढाई का कुछ भी मतलब नही है क्योकि पढ़ाई से हमको ज्ञान मिलता है.

अगर हम उस ज्ञान को अपने अन्दर नहीं डालते है तोह हम किसी लायक नहीं है,क्योकि किताबो में शुरू से ही बताया जाता है की आपको बड़ो का सम्मान करना चाहिए लेकिन अगर आप इसे अनदेखा  कर रहे है तोह दोस्तों ये पक्का है की ये छोटी सी लगने वाली गलती आपको जिन्दगी में सजा बन सकती है जिसका आपको जिन्दगी भर पछतावा होगा इसलिए हम सभी को बड़ो का सम्मान करना सीखना होगा और हर एक व्यक्ति को इस मॉडर्न जमाने में बड़ो का सम्मान करना ही चाहिए वरना उसकी जिन्दगी तवाह हो सकती है.

ये भी पढें- आधुनिक जीवन शैली पर निबंध essay on adhunik jeevan shaili in hindi

हम जैसे जैसे इस मॉडर्न सभ्यता को निभाते जा रहे है,साथ में बड़ो का सम्मान करना भी निरंतर भूलते जा रहे है,हमको सिर्फ लाइफ स्टाइल से मतलव है बड़ो के सामान से कोई ज्यादा मतलव नहीं रह गया है,अगर हम बड़ो का सम्मान करते है तोह सफलता हमारे कदम चूमेगी.

दोस्तों पुराने ज़माने में श्री राम चन्द्र जी ने बड़ो का सम्मान रखने के लिए अपने बारे में बिलकुल भी नहीं सोचा,उन्होंने अपने पिता के बचन को रखने के लिए १४ साल तक अपना समय वनों में व्यतीत किया और फिर भी अपने बड़ो का सम्मान करना नहीं भूले,यहाँ तक की उन्होंने
वन में १४ साल रहने के बाद में केकई जिनकी वजह से वोह वन में गये थे उनको इसके भी बड़ा मान सम्मान दिया क्योकि वोह हम सभी को बताना चाहते थे की कुछ भी हो हमें किसी भी परिस्थितियों में बड़ो का सम्मान करना नहीं छोड़ना चाहिए.

इसके आलावा भी कुछ लोग ऐसे हैं की वो हर हालात में बड़ो  की बात मानते थे और उनका सम्मान किया करते थे लेकिन इस ज़माने में ज्यादातर लोगो की सोच में बदलाब आ रहा है,न तो लोग अपने माँ बाप को सम्मान देते है,न गुरु को सम्मान देते है,बस सिर्फ ऐसे ही चलते जाते है,सोचते है की हमारे सम्मान देने से क्या होगा,में अपने आने बाले बच्चो को अच्छे संस्कार सिखाऊंगा और ऐसा बनाऊंगा की बो मेरी बात माने,हर इन्सान यही सोचता है.

दोस्तों आप के द्वारा अपने बच्चो को सिखाने से कुछ नहीं होगा,अगर आप अपने बच्चो से मान सम्मान चाहते है तो आप को भी अपने बड़े बुजुर्गो को मान सम्मान देना होगा,गुरुओं का भी आदर करना होगा तभी हम जीवन में अपने परिवार को खुशहाली के साथ  में आगे बड़ा सकते हैं.

दोस्तों आज हम देख रहे है की ज्यादातर परिवार में झगडे होते रहते है,लोग अपने परिवारिक झगड़ो को ख़त्म करने के लिए बड़े बड़े महात्माओ ऑर बाबाओं के चककर लगते हैं ऑर मंदिरों में जाकर प्रथनाये करते है की मेरे घर में हमेश खुशहाली रहे,दोस्तों सोचने वाली बात ये है की ये जो भी परेशानियाँ आई हैं,उसका जिम्मेदार आप ही हो,अगर आप अपने आप में बदलाब लाओ ऑर उन्हें सम्मान दो तो आप को किसी से प्राथना करने की जरुरत ही न पड़े सोचिये अगर आप अपनी परेशानियो के कारण अपने आप में बद्लाब नहीं लाते तो ये पक्का है की आप की परेशानी दूर करने के लिए आपकी जिन्दगी में बदलाव और नहीं कर सकता.

दोस्तों बाकई में आप को एक खुशहाल जिन्दगी जीना है तो आपको बड़ो का सम्मान करना होगा,दोस्तों एक बात ये भी है कुछ लोग ऐसे होते है जो बड़ो का सम्मान नहीं करते है तोह आज इस आर्टिकल को पढने के बाद उन्हें प्रेरणा लेनी चाहिए और हमको जीवन में आगे से बड़ो का सम्मान करने के बारे में सोचना चाहिए क्योकि कहा है की हम जहा से दिल से सुधरने की कोशिश करते है,वही से एक नए जीवन की शुरुआत होती है,इसलिए अपने जीवन में परिवर्तन लाइए और बड़ो का सम्मान करना सीखिए.

दोस्तों हम सब चाहते है की हर इन्सान हमें सम्मान दे हमारे बच्चे,छात्र,भाई बहन लेकिन जब तक हम उन्हें मानसम्मान करना नहीं सिखायेंगे तब तक वोह आपका मानसम्मान कैसे करेंगे,अगर आप इनसे मानसम्मान चाहते है तोह आपको भी अपने बड़े बुजुर्गो को मानसम्मान देना होगा,तभी हम हमारे देश को आगे बड़ा सकते है.

अगर आपको हमारी ये पोस्ट bado ka samman essay in hindi पसंद आई हो तोह इसे शेयर जरुर करे और हमारी अगली पोस्ट सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब करे और हमें कमेंट्स के जरिये बताये की आपको हमारी ये पोस्ट bado ka samman essay in hindi कैसी लगी जिससे अगली पोस्ट लिखने में हमें प्रोत्साहन मिले.

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *