कूड़ेदान की आत्मकथा Autobiography of dustbin in hindi

Autobiography of dustbin in hindi

Autobiography of dustbin – दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से कूड़ेदान की आत्मकथा के बारे में बताने जा रहे हैं । तो चलिए अब हम आगे  बढ़ते हैं और इस आर्टिकल को पढ़कर कूड़ेदान की आत्मकथा पर लिखे इस आर्टिकल को पढ़कर जानकारी प्राप्त करते हू ।

Autobiography of dustbin in hindi
Autobiography of dustbin in hindi

मैं कूड़ेदान हूं , मेरा उपयोग करके सब स्वच्छता बनाए रखते हैं । मैं इंसान के द्वारा बनाया गया हूं । मैं प्लास्टिक , लोहे , लकड़ी का हो सकता हूं । मेरा उपयोग बड़े बड़े मॉल , मेरा उपयोग बड़े बड़े घरों में , होटलो और दुकानों में किया जाता है । मेरे द्वारा गंदगी को खत्म किया जाता है । मेरे अंदर काफी कूड़ा डालकर एक स्थान पर व्यवस्थित रखा जाता है । मेरी कल्पना एक इंसान के द्वारा की गई है । जब मेरा निर्माण किया जाता है तब मुझे एक स्थान पर रख दिया जाता है । मेरा उपयोग करके सभी गंदगी को खत्म करते हैं । बड़े-बड़े शहरों से लेकर गांव तक मेरा उपयोग किया जाने लगा है ।

जब कोई व्यक्ति चाय की दुकान पर चाय पीने के लिए जाता है और चाय का जो गिलास है उस गिलास को फेंंकने के लिए मुझे देखता है कि कहां पर डस्टबिन रखा है  और वह गिलास  डस्टबिन में डाल देता है जिससे आसपास की स्वच्छता बनी रहती है । मेरा उपयोग तेजी से किया जा रहा है । सभी लोग जब अपने घर की स्वच्छता को और भी सुंदर बनाने का विचार करते हैं तब घर के हर हिस्से में मुझे रखकर मुझमे गंदगी डालकर स्वच्छता बनाए रखते हैं । मेरे बिना एक स्वच्छ वातावरण की कल्पना करना मुश्किल है ।

जब मेरा जन्म नहीं हुआ था तब लोग गंदगी को सड़कों पर फेंक देते थे और वातावरण दूषित हो जाता था । मेरा उपयोग इसलिए किया गया है कि लोग सड़कों पर गंदगी ना फेंके । डस्टबिन यानी मेरा उपयोग करके लोग स्वच्छता अभियान में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें । मैं अपने आप पर बड़ा गर्व करता हूं कि मैं स्वच्छता को बनाए रखने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहा हूं । मेरा उपयोग बड़े-बड़े मंदिरों में भी किया जाता है । जब लाखों की संख्या में लोग मंदिर के दर्शन करने के लिए जाते हैं तब लोगों के पास जो वेस्ट सामान रहता है वह लोग उस वेस्ट सामान को डस्टबिन में डाल देते हैं ।

कूड़ा दान का उपयोग छोटे परिवार से लेकर बड़े-बड़े परिवार के लोग करने लगे हैं । आज मेरा उपयोग बड़े शहर के हर चौराहे पर किया जा रहा है । सरकारी भवनों से लेकर प्राइवेट कार्यालयों तक मैैं ही दिखाई देता हूं । मैं बड़ा सौभाग्यशाली हूं कि लोग मेरा उपयोग कर रहे हैं । जब कोई व्यक्ति बेस्ट सामान को फेखने के लिए घर से बाहर जाता है तब वह व्यक्ति मुझे देखता है कि डस्टबिन , कूड़ा दान कहां पर रखा हुआ है । भारत देश के साथ साथ कई बड़े-बड़े अंतरराष्ट्रीय देशों में मेरा उपयोग किया जाने लगा है । मैं कई तरह का रहता हूं ।

कई लोग मेरा निर्माण लकड़ी के माध्यम से करते हैं तो कई लोग मेरा निर्माण स्टील के माध्यम से करते हैं । मैं किसी भी चीज का बना हो सकता हूं पर मेरा काम एक ही है कचरे को एकत्रित करना , आसपास की गंदगी को फैलने से रोकना । जब लोग मेरा उपयोग तेजी से करने लगे तब एक स्वच्छ वातावरण बनने लगा है । घर , देश , राज्य को स्वच्छ बनाने के लिए मेरा उपयोग करना बहुत ही जरूरी है । जो व्यक्ति मेरा उपयोग करते हैं वह एक अच्छा नागरिक कहलाता है । यदि सभी लोग मिलकर मेरा उपयोग करने लगे तो गंदगी सड़कों पर नहीं दिखाई देगी ।

मेरा उपयोग करना आज बहुत ही जरूरी है क्योंकि प्रदूषण दिन प्रतिदिन फैलता जा रहा है । यदि लोग एक स्वच्छ वातावरण प्राप्त करना चाहते हैं तो मेरा विकास तेजी से किया जाए और सभी लोग यह संकल्प लें कि वह मेरा उपयोग अवश्य करेंगे । मेरा उपयोग करने को लेकर कई लोगों के द्वारा एक अभियान भी चलाया जा रहा है और लोगों को जागरूक किया जा रहा है कि कूड़ा दान का उपयोग करना क्यों जरूरी होता है । कूडा़ दान के उपयोग करने से हम कई बीमारियों से बच सकते हैं । आज हम देख रहे हैं कि गंदगी फैलने के कारण कितनी तरह की बीमारियां पैदा हो रही हैं ।

गंदगी से कीड़े , मकोड़े , मच्छर कई घातक  कीट उत्पन्न होते हैं जिनके कारण हम बीमार पड़ जाते हैं । यदि हम बीमारियों से बचना चाहते हैं , अपने शरीर को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो हमें गंदगी को रोकना बहुत ही जरूरी है और गंदगी कब रुकेगी जब आप मेरा यानी कूड़ेदान का उपयोग करेंगे । आज  आप सभी नागरिकों को यह दृढ़ संकल्प लेना चाहिए कि बीमारियों को दूर भगाने के लिए आप मेरा उपयोग अवश्य करेंगे ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह जबरदस्त लेख कूड़ेदान की आत्मकथा Autobiography of dustbin in hindi यदि आपको पसंद आए तो सबसे पहले आप सब्सक्राइब करें इसके बाद अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों में शेयर करना ना भूले । दोस्तो  आपको इस आर्टिकल में कुछ गलती नजर आए तो आप हमें उस गलती के बारे में अवश्य बताएं जिससे कि हम उस गलती को सुधार कर यह आर्टिकल आपके समक्ष पुनः अपडेट कर सकें धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *