कसार देवी मंदिर का इतिहास Almora kasar devi temple history in hindi

Almora kasar devi temple history in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं उत्तराखंड के एक बहुत ही भव्य मंदिर कसार देवी के मंदिर के इतिहास के बारे में, जिसके बारे में जानकार आप काफी अच्छा अनुभव करेंगे तो चलिए जानते हैं कसार देवी के मंदिर के बारे में

Almora kasar devi temple history in hindi
Almora kasar devi temple history in hindi

यह मंदिर कहां स्थित है- कसार देवी का मंदिर उत्तराखंड राज्य के अल्मोड़ा जिले में स्थित है। दरअसल अल्मोड़ा से लगभग 8 किलोमीटर दूर कसार नामक गांव है यहीं पास में एक कश्यप पर्वत है इसी कश्यप पर्वत पर स्थित है कसार देवी मंदिर। दरअसल यह मंदिर कश्यप पहाड़ी की एक चोटी पर गुफा के स्थान पर बना हुआ है।

इस मंदिर के बारे में कहानी- मंदिर को लेकर एक कहानी भी है यह माना जाता है कि जब शुंभ निशुंभ नामक राक्षस आतंक मचा रहे थे तभी मां दुर्गा ने एक अवतार धारण किया, यह अवतार देवी कात्यायनी के नाम से जाना जाता है। मां दुर्गा के इस रूप में शुंभ और निशुंभ इन दोनों राक्षसों का वध किया था तब से देवी कात्यायनी की यहां पर पूजा की जाती है तभी से इस स्थान का विशेष रूप से महत्व है। इसी स्थान पर स्वामी विवेकानंद जी भी कुछ समय तक रहे थे और उन्होंने इस विशेष स्थान पर ज्ञान की अनुभूति भी प्राप्त की थी।

कसार देवी मंदिर की मान्यताएं- ऐसा माना जाता है कि कसार देवी मंदिर एक ऐसा मंदिर है जो लोगों की मन की इच्छाएं पूरी करता है। जो भी भक्तगण इस मंदिर में श्रद्धा भाव से आते हैं और कुछ मांगते हैं तो उनकी मन की इच्छा देवी जरूर ही पूरा करती है।

भ्रमण करने के लिए विशेष स्थान- कसार देवी का मंदिर एक बहुत ही भव्य मंदिर है, इस मंदिर के दर्शन करने के लिए श्रद्धालु दूर-दूर से आते हैं। इसके अलावा इस मंदिर के आसपास ऐसा खूबसूरत वातावरण है जिसकी आजकल के युग में जरूरत है। बहुत से भक्तगण मंदिर के साथ में यहां के वातावरण का अनुभव करके मन को शांति प्रदान करते हैं। यहां पर कई लोग योग आदि भी करते हैं, यह स्थान ध्यान करने के लिए भी उचित है।

इस स्थान के बारे में अन्य बातें- यह स्थान हिप्पी आंदोलन के लिए भी काफी प्रसिद्ध हुआ था। कहा जाता है कि 40 या 50 साल पहले यह स्थान ऋषि मुनियों का घर हुआ करता था। हम यदि अल्मोड़ा जिले के इस विशेष स्थान कसार देवी मंदिर पर घूमने के लिए आए हैं तो अल्मोड़ा जिले के हम कई अन्य भव्य मंदिरों के दर्शन भी जरूर कर सकते हैं। हर साल के आखिरी महीनों में इस विशेष स्थान पर मेला भी लगता है। हम सभी को इस मेले में एक बार जरूर जाना चाहिए। नासा के वैज्ञानिक यहां पर चुंबकीय क्षेत्र की जांच कर रहे हैं, उनका कहना है कि इस स्थान पर चुंबकीय पिंड है।

दोस्तों मेरे द्वारा लिखा यह आर्टिकल Almora kasar devi temple history in hindi आप अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूलें और हमें सब्सक्राइब जरूर करें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *