बोस्टन की चाय पार्टी का इतिहास Boston tea party history in hindi

Boston tea party history in hindi

Boston tea party – दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बोस्टन की चाय पार्टी के इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं । तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस आर्टिकल को पढ़कर बोस्टन की चाय पार्टी के इतिहास के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हैं ।

Boston tea party history in hindi
Boston tea party history in hindi

बोस्टन की चाय पार्टी के बारे – बोस्टन की चाय पार्टी अमेरिका का एक विरोध प्रदर्शन था । जब सितंबर , अक्टूबर के महीने में चाय से लदे हुए जहाज  1773 में बोस्टन में भेजे गए थे तब वहां के निवासियों को यह पता चला कि चाय अधिनियम मे बदलाव किए गए हैं जिसके बाद उन्होंने चाय अधिनियम के विवरण के बारे में जानकारी प्राप्त की जिसके बाद ईस्ट इंडिया कंपनी के द्वारा जो 7 जहाज उपनिवेश में भेजे गए थे उन सभी जहाजों को वहीं पर रोक दिया गया था । जिसके बाद अमेरिका में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया था ।

जो प्रदर्शन धीरे-धीरे बढ़ता गया और  कई  क्रांतिकारी  इस प्रदर्शन से  जुड़ते गए थे ।जिसके बाद प्रदर्शनकारियों के द्वारा बोस्टन चाय पार्टी की स्थापना की गई थी जिसका उद्देश्य ईस्ट इंडिया कंपनी का विरोध करना था । जिस विरोध प्रदर्शन में अमेरिका के निवासियों के द्वारा एक महत्वपूर्ण योगदान दिया गया था । जब भी अमेरिका में बोस्टन की चाय पार्टी विषय पर बातचीत होती है तब प्रदर्शनकारियों के बारे में भी चर्चा की जाती है । ब्रिटिश उपनिवेश के एक उपनिवेश बोस्टन के उपनिवेश वासियों के माध्यम से ब्रिटिश सरकार के खिलाफ एक कड़ा प्रदर्शन किया गया था ।

यह प्रदर्शन तब अधिक होने लगा जब 16 दिसंबर 1773 को बोस्टन अधिकारियों के द्वारा कर युक्त चाय के तकरीबन तीन जहाजों को ब्रिटेन को वापस करने से इंकार कर दिया गया था । जिसके बाद यह प्रदर्शन काफी तेज हो गया था । जब ब्रिटेन को तीन जहाज लौटाने से मना कर दिया था तब उपनिवेश वासियों का एक बड़ा समूह जहाज़ पर चढ़ गया था । इसके बाद उपनिवेश वासियों का जो एक बड़ा समूह जहाज पर चढ़ा था उस समूह ने जहाज पर जो चाय के कार्टून थे उन सभी कार्टूनों को बोस्टन हार्वर मे फेंक दिया गया था ।

यह घटना अमेरिका देश के इतिहास की सबसे प्रमुख घटित घटना है । जिस घटना के बारे में आज भी अमेरिका के राजनीति में बातचीत की जाती है । इसके बाद अमेरिका देश में चाय पार्टी की शुरुआत की गई थी । जिस चाय पार्टी के द्वारा संपूर्ण ब्रिटिश अमेरिका में चाय अधिनियम के खिलाफ एक आंदोलन प्रारंभ किया गया था । यह अधिनियम ब्रिटिश संसद में सन 1773 में पारित किया गया था । जब संसद में यह अधिनियम पारित किया गया तब उपनिवेश वासियों के द्वारा इसका विरोध प्रदर्शन किया गया था ।

उपनिवेश वासियों के द्वारा इस अधिनियम का विरोध इसलिए किया गया था क्योंकि उपनिवेश वासी  यह मानते थे कि इस अधिनियम से निर्वाचित प्रतिनिधियों द्वारा कर लगाने के अधिकार का उल्लंघन किया गया है । जिसके बाद अमेरिका में प्रदर्शन तेजी से बढ़ने लगा था । जब यह प्रदर्शन तेजी से बढ़ने लगा तब प्रदर्शनकारियों के द्वारा सफलतापूर्वक कर युक्त चाय जो तीन अन्य उपनिवेश में उतरने वाली थी उसे पूरी तरह से रोक दिया गया था ।इसके बाद बोस्टन मे समस्याएं बढ़ने लगी थी । समस्याओं से घिरे हुए शाही राज्यपाल थॉमस हचिसन के द्वारा ब्रिटेन देश को चाय लौटाने से इंकार कर दिया गया था ।

जब अमेरिका में बोस्टन चाय पार्टी का गठन किया गया तब बोस्टन चाय पार्टी के द्वारा अमेरिकी क्रांति के विकास में कई कार्य किए गए थे । इसीलिए बोस्टन चाय पार्टी का अमेरिकी क्रांति के विकास में एक महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है । जब थॉमस हचिसन के द्वारा ब्रिटेन सरकार को चाय वापस करने से मना कर दिया गया था तब 1774 में संसद के द्वारा एक अनिवार्य नियम बनाया गया था जिस नियम में कई प्रावधान किए गए थे और बोस्टन के व्यापार पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई थी और ब्रिटेन सरकार को यह चेतावनी दे दी गई थी कि जब तक ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी नष्ट हुई चाय का भुगतान नहीं कर देती तब तक व्यापार में पूरी तरह से रोक लगी रहेगी ।

इसके बाद वहां के उपनिवेश वासियों के द्वारा सभी अनिवार्य नियमों का विरोध प्रदर्शन किया गया था ।यह विरोध प्रदर्शन कम होने का नाम ही नहीं ले रहा था जिसके बाद 1775 में बोस्टन के पास में अमेरिकी क्रांतिकारी युद्ध की शुरुआत हुई थी जो युद्ध अमेरिका के इतिहास का सबसे रोमांचक युद्ध रहा है ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह बेहतरीन आर्टिकल बोस्टन की चाय पार्टी का इतिहास Boston tea party history in hindi यदि आपको पसंद आए तो सबसे पहले आप सब्सक्राइब करें इसके बाद अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों में शेयर करना ना भूले । दोस्तों यदि आपको इस आर्टिकल में पढ़ते समय कुछ कमी या गलती नजर आए तो आप हमें कृपया कर उस गलती के बारे में हमारी ईमेल आईडी पर अवश्य बताएं जिससे कि हम उस गलती को सुधार कर यह आर्टिकल आपके समक्ष पुनः प्रस्तुत कर सकें धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *