वातावरण में सुधार पर निबंध Hindi essay about vatavaran me sudhar

Hindi essay about vatavaran me sudhar

Vatavaran me sudhar – दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से वातावरण में सुधार पर लिखे निबंध के बारे में बताने जा रहे हैं तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस आर्टिकल को पढ़कर वातावरण में सुधार पर लिखे निबंध के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हैं ।

Hindi essay about vatavaran me sudhar
Hindi essay about vatavaran me sudhar

वातावरण में सुधार के बारे में – वातावरण मे सुधार होना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि प्रदूषण जिस रफ्तार से फैल रहा है यदि इसी रफ्तार से प्रदूषण फैलता रहा तो आने वाले समय में वातावरण इतना दूषित हो जाएगा कि फिर उसको शुद्ध करना बहुत ही मुश्किल होगा । वातावरण में सुधार तब होगा जब पेड़ पौधे अधिक मात्रा में होंगे क्योंकि वातावरण में जो हानिकारक विषैली गैस होती हैं उन हानिकारक विषैली गैसों को पेड़ ही ग्रहण करते हैं और हम सभी को सुद्ध ऑक्सीजन देते हैं ।

वातावरण में सुधार करना हम सभी व्यक्तियों का दायित्व है क्योंकि जिस तरह से गाड़ियां सड़कों पर चल रही हैं उससे हानिकारक धुआं निकलता है जिस हानिकारक धुयें से वातावरण दूषित होता है । लॉकडाउन के समय में वातावरण में काफी सुधार हुआ है क्योंकि कम मात्रा में गाड़ियां सड़कों पर चल रही हैं जिससे पर्यावरण दूषित होने से बच रहा है और वातावरण में काफी सुधार हुआ है । प्रकृति भगवान के द्वारा मनुष्य को दी गई एक सुंदर भेट है जिस प्रकृति की सुंदरता को सुंदर बनाए रखना मनुष्य , इंसानों का फर्ज है ।

हम सभी जानते हैं कि यदि वातावरण दूषित होगा तो इसका खामियाजा हम सभी लोगों को ही भुगतना पड़ेगा क्योंकि वातावरण में हम सभी को अपना जीवन व्यतीत करना है यदि वातावरण शुद्ध नहीं रहेगा तो हम स्वस्थ कैसे रह सकते हैं । वातावरण मेे सुधार करने के लिए हमें साफ सफाई का विशेष तौर पर ध्यान रखना चाहिए । हमें वातावरण का सुधार करने के लिए अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगाना चाहिए । जो लोग पेड़ों को काटते हैं उनको भी पेड़ों की महत्वता के बारे में बताना चाहिए ।

लोगों को जागरूक करना चाहिए कि पेड़ मनुष्य के जीवन में कितने महत्वपूर्ण हैं । जब तेज धूप पड़ती है तब पेड़ ही हमें छाया प्रदान करते हैं । पेड़ हमें शुद्ध ऑक्सीजन देते हैं । पेड़ों से ही वातावरण शुद्ध रहता है । आज हम देख रहे हैं कि मनुष्य की जरूरतों की पूर्ति के लिए कारखानों का निर्माण तेजी से हो रहा है । जब कारखानों से निकलने वाला धुआं वातावरण में घुल जाता है तब वातावरण दूषित हो जाता है । कारखानों से निकलने वाले केमिकल से वातावरण दूषित हो जाता है । जब हम सांस लेते हैं तब हमें घुटन सी महसूस होती है ।

मनुष्य को अपने जीवन में कम से कम एक पेड़ अवश्य लगाना चाहिए क्योंकि आने वाले समय में बहुत अधिक जनसंख्या बढ़ जाएगी जिसके कारण वातावरण अधिक दूषित होगा । हमें आने वाली पीढ़ी के लिए पेड़ अवश्य लगाना चाहिए जिससे कि आने वाली पीढ़ी भी पेड़ों का लाभ ले सकें । वातावरण के सुधार के लिए सरकार भी कार्य कर रही है । सरकार के द्वारा वातावरण को शुद्ध करने के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगाए जा रहे हैं । वातावरण मे सुधार के लिए लोगों को सरकार के द्वारा जागरूक किया जा रहा है कि वातावरण को शुद्ध रखने के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगाएं ।

सबसे ज्यादा वातावरण पेट्रोल , डीजल से चलने वाली गाड़ियों से दूषित हो रहा है । हमें वातावरण को शुद्ध रखने के लिए यह कोशिश करनी चाहिए कि हम पेट्रोल , डीजल से चलने वाले वाहनों का कम से कम उपयोग करें । नदी तालाब मे जब हम गंदगी डालते हैं तब उस गंदगी से पानी दूषित हो जाता है और नदी तालाब के किनारे कीचड़ जम जाती है जिससे बदबू आने लगती है और वातावरण दूषित हो जाता है । वातावरण को दूषित होने से रोकने के लिए हमें यह कोशिश करनी चाहिए कि हम नदी तालाबों में गंदगी ना डालें ।

जब कोरोना के कारण लॉकडाउन की घोषणा की गई तब वातावरण में काफी सुधार हुआ है क्योंकि सड़कों पर चलने वाले वाहनों में कमी आई है जिससे वातावरण दूषित होने से बचा है । लॉकडाउन के बाद फैक्ट्रियों से निकलने वाला हानिकारक धुआंं और विषैले पदार्थ बाहर निकलना बंद हुए तब वातावरण शुद्ध हुआ है ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह बेहतरीन आर्टिकल वातावरण में सुधार पर निबंध Hindi essay about vatavaran me sudhar यदि आपको पसंद आए तो सबसे पहले आप सब्सक्राइब करें इसके बाद अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों में शेयर करना ना भूले । दोस्तों यदि आपको इस लेख में कुछ कमी नजर आती है तो आप हमें कृपया कर उस कमी के बारे में हमारी ईमेल आईडी पर हमें अवश्य बताएं जिससे कि हम उस कमी को सुधार कर यह आर्टिकल आपके समक्ष पुनः प्रस्तुत कर सके धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *