महाराणा प्रताप की मृत्यु कैसे हुई Maharana pratap ki mrityu kaise hui

Maharana pratap ki mrityu kaise hui

दोस्तों आज हम एक महान प्रतापी राजा महाराणा प्रताप की मृत्यु के बारे में जानेंगे. महाराणा प्रताप जिन पर कहीं सीरियल भी बन चुके हैं जिनके कौशल और पराक्रम की हर कोई तारीफ करता है हल्दीघाटी में होने वाले युद्ध में महाराणा प्रताप थे इस युद्ध में भी हमें महाराणा प्रताप के पराक्रम के बारे में जानकारी मिलती है महाराणा प्रताप ने सिर्फ अपने कुछ सैनिकों के दम युद्ध किया.

Maharana pratap ki mrityu kaise hui
Maharana pratap ki mrityu kaise hui

हल्दीघाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप के पीछे कुछ सैनिक पड़ रहे थे महाराणा प्रताप अपने प्रिय घोड़े चेतक के ऊपर बैठे हुए थे जो कि हवा की रफ्तार से दौड़ता था इनके घोड़े चेतक ने लगभग 26 फुट की छलांग लगाई जिसे सैनिक पार नहीं कर पाए और उसने अपने राजा को सुरक्षित बचाया लेकिन कुछ समय बाद की घटना है कि एक बार महाराणा प्रताप जंगल में शिकार करने के लिए जा रहे थे जंगल में एक दुर्घटना घटी जिसके कारण महाराणा प्रताप घायल हो गए और 57 साल की उम्र में 29 जनवरी 1597 को महाराणा प्रताप की मृत्यु हो गई.

इससे पहले सभी ने ये शपथ ली कि जब तक हम जीवित रहेंगे तब तक इस राज्य में अकबर को कब्जा नहीं करने देंगे जब ये खबर अकबर को पता लगी की महाराणा प्रताप की मृत्यु हो गई है तो उसको बहुत दुख हुआ क्योंकि अकबर चाहता था कि महाराणा प्रताप को बंधक बनाए लेकिन अकबर अपने पूरे जीवन में महाराणा प्रताप का सामना नहीं कर पाया. वह उसके सामने भी नहीं आ पाया क्योंकि अकबर महाराणा प्रताप से भयभीत होता था वास्तव में महाराणा प्रताप एक तेजस्वी वीर साहसी थे जिन्हें इतिहास के पन्नों में हमेशा हमेशा के लिए याद किया जाएगा.

अगर आपको हमारी कहानी Maharana pratap ki mrityu kaise hui पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा इसी तरह के नये नये आर्टिकल अपने ईमेल पर पाने के लिए हमे सब्सक्राइब जरूर करे।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *