प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना pradhan mantri khanij kshetra kalyan yojana in hindi

pradhan mantri khanij kshetra kalyan yojana in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना को . चलिए अब हम पढ़ेंगे प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना को . प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना सबसे महत्वपूर्ण योजना है . इस योजना से निम्न वर्ग की जातियों को यानी भील , आदिवासी एवं खनन क्षेत्र में रहने वाले लोगों को फायदा प्राप्त होगा . इस योजना के द्वारा उनके जीवन में खुशियां आएंगी . इस योजना से खनन क्षेत्र के आसपास रहने वाले व्यक्ति को रोजगार दिया जाएगा .

pradhan mantri khanij kshetra kalyan yojana in hindi
pradhan mantri khanij kshetra kalyan yojana in hindi

image source –https://pradhanmantri-yogana.in/

कृषि के बाद यदि सबसे ज्यादा रोजगार प्राप्त हो सकता है तो वह क्षेत्र खनन क्षेत्र है . खनन क्षेत्र में हम अधिक से अधिक रोजगार प्राप्त कर  सकते हैं . इसी उद्देश्य से भारत के प्रधानमंत्री ने प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना प्रारंभ की थी . हमारे भारत के प्रधानमंत्री ने निचली जाति के कल्याण के लिए यह योजना प्रारंभ की थी . प्रधानमंत्री का उद्देश्य था कि इस योजना से निचली जाति का कल्याण हो , उनको रोजगार मिले . इस योजना की शुरुआत 2015 में की गई थी . इस योजना के द्वारा 2015 के शुरुआती दिनों में एमएमडीआर अधिनियम में संशोधन किया गया था .

प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना ने  इस संशोधन में नई जान फूंक दी थी . जब 2015 में एमएमडीआर अधिनियम में संशोधन किया गया तब राज्य की सरकारों को यह अधिकार मिल चुके थे कि वह जनपद खनिज फाउंडेशन का गठन कर सके  और राज्य की सरकारों को यह अधिकार मिल चुके थे कि वह जनपद खनिज फाउंडेशन के लिए नए नियम बना सकते हैं जो  नियम अनुपयोगी हैं उनको हटा सकते हैं . जब यह योजना खनन मंत्रालय के द्वारा प्रारंभ की गई थी तब 2015 में खनिज मंत्रालय ने डीएमएफ की निधियों का  उपयोग करने हेतु कई प्रकार के दिशा निर्देश जारी किए थे .

इस योजना के माध्यम से सभी को दिशा निर्देशों पर चलने एवं काम करने के लिए कहा गया था . खनन मंत्रालय ने यह स्पष्ट कर दिया था कि राज्य सरकार इस योजना पर नजर रखेगी और यदि कोई इस योजना का दुरुपयोग करता है तो  उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी . खनन मंत्रालय ने जब दिशा निर्देश लागू किए तब खनन मंत्रालय ने इस योजना का नाम प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना रखा गया था . इस योजना को प्रारंभ करने का केंद्र की सरकार का एक ही उद्देश्य था कि ऐसे क्षेत्रों में रहने वाले लोग जो पहाड़ी , चट्टानी इलाके हैं वहां के लोगों को रोजगार देना , सभी सरकारी सुविधाएं प्रदान करना है .

प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना के माध्यम से केंद्र की सरकार ने कुछ लक्ष्य रखे थे . उन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना को सफल बनाना जरूरी है . प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना के द्वारा  तीन लक्ष्य रखे गए हैं . पहला लक्ष्य जो छेत्र खनन प्रभावित क्षेत्र हैं वहां विकासशील कल्याणकारी परियोजनाओं के कार्यक्रम कराना . जो योजनाएं केंद्र एवं राज्य की सरकार के अनुरूप हो . दूसरा लक्ष्य स्वास्थ्य एवं खनन मिलों में पर्यावरण मिलों में लोगों की आर्थिक स्थिति एवं सामाजिक स्थिति पर पडने वाले दुष्प्रभावों को नष्ट करना .

तीसरा लक्ष्य खनन क्षेत्र के सभी लोगों के लिए दीर्घकालीन आजीविका सुनिश्चित कराना है जिससे वह अपने जीवन को सही ढंग से जी सकें , उनको सारी सुख सुविधाएं प्राप्त हो सके . 12 जनवरी 2015 से पहले खनन माफियाओं के लिए जो पट्टे दिए जा चुके हैं . वह डीएमएफ में  देय रॉयल्टी का उनको 30% हिस्सा देना पड़ेगा . 12 जनवरी 2015 के बाद जो पट्टे दिए गए हैं उन्हें देय रॉयल्टी का 10 फ़ीसदी हिस्सा देना होगा . इस योजना के द्वारा उच्च प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में 60% निधि खर्च की जाएगी और अन्य प्राथमिकता बाले  क्षेत्रों में 40 फ़ीसदी निधि खर्च की जाएगी .

अन्य प्राथमिकता वाले क्षेत्र जैसे कि ऊर्जा एवं आमूल विकास, भौतिक संरक्षण, सिंचाई, खनन जिलों में पर्यावरण के गुणवत्ता बढ़ाने के लिए आयाम आदि . उच्च प्राथमिकता वाले क्षेत्र जैसे कि स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा ,महिला बाल विकास , वृद्धजनों एवं निशक्त जनों का कल्याण , कौशल विकास , पेयजल आपूर्ति , पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण आदि का विकास करना .

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना pradhan mantri khanij kshetra kalyan yojana in hindi आपको पसंद आए तो सब्सक्राइब अवश्य करें धन्यवाद .

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *