पुरस्कार विजेता पर कविता Award winning hindi hasya kavita

Award winning hindi hasya kavita

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं पुरस्कार जीतने पर हमारे द्वारा लिखी एक हास्य कविता. यह हमारे द्वारा लिखी काल्पनिक कविता है जो सिर्फ आपके मनोरंजन के लिए लिखी गई है आप इसे जरूर पढ़ें

Award winning hindi hasya kavita
Award winning hindi hasya kavita

हमारी इस कविता में हमने एक व्यक्ति का पागलपन दिखाया है कि कैसे एक व्यक्ति पुरस्कार जीतने के लिए जिद करता है वो नहीं समझता कि जीवन में पुरस्कार अपनी काबिलियत के दमपर, अपने अच्छे कार्यों की वजह से प्राप्त होता है तो चलिए पढ़ते हैं हमारी आज की इस हास्य कविता को

आया हूं मैं पुरस्कार जीतने

जीवन में कुछ नया सीखने

ना कुछ अच्छा किया ना कुछ पाया मेने

फिर भी खड़ा हूं मैं पुरस्कार जीतने

 

कोई जीते या हारे मुझे मतलब नहीं

पुरस्कार मुझे चाहिए यही मतलब है मुझे

दूसरे को तुम पुरस्कार क्यों देते हो

मैं खड़ा हूं तब से पुरस्कार क्यों ना मुझे देते हो

 

घर जाकर बताऊंगा पुरस्कार मुझे मिला

यही कहकर परिवार को खुश करता जाऊंगा

कोई मुझे पुरस्कार दे कोई रहम तो करें

कह कहकर में यहां से ना हटूंगा

 

पुरस्कार के सपने में देखता हूं

पाने के लिए ना मैं कुछ करता हूं

पुरस्कार के लिए मैं लड़ता झगड़ता हूं

बच्चों की तरह में ये जीवन समझता हूं

आया हूं मैं पुरस्कार जीतने

जीवन में कुछ नया सीखना

मुझे बताये की ये हास्य कविता Award winning hindi hasya kavita आपको कैसी लगी.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *