नर्मदा एक नदी नहीं संस्कृति है विषय पर लेख Narmada ek nadi nahi sanskriti hai nibandh

नर्मदा एक नदी नहीं संस्कृति है विषय पर लेख

दोस्तों आज हम आपको इस लेख के माध्यम से नर्मदा एक नदी नहीं संस्कृति है पर लिखे लेख के बारे में बताने जा रहे है तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैै और इस लेेेख को पढ़कर नर्मदा एक नदी नहीं संस्कृति है के बारे मेें जानकारी प्राप्त करते है

नर्मदा नदी भारत की सबसे पवित्र नदी हैं इस नदी से सभी लोगों की आस्था जुड़ी हुई हैं. नर्मदा नदी को सभी रेवा नदी के नाम से भी जानते है. यह मध्य भारत की एक नदी है जिस नदी में सभी को स्नान करने के बाद आनंद प्राप्त होता है.

यह भारत की सबसे लंबी नदी है. नर्मदा नदी सिर्फ नदी नही है यह हमारे भारत की संस्कृति है. जैसा की हम सभी जानते है कि भारत के सभी नागरिक भारत की संस्कृति से बहुत प्रेम करते है और नर्मदा नदी से सभी लोगो की आस्था जुड़ी हुई हैं.

नर्मदा नदी का जल स्वादिष्ट जल है, साफ सुथरा जल है. जब नर्मदा नदी के जल से फसलो की सिंचाई की जाती है तब भारतीय किसानों को अनाज प्राप्त होता है जिस अनाज से भारतीय किसानों के परिवार का भरण पोषण होता है, इसके साथ साथ नर्मदा नदी का स्वादिष्ट जल हम सभी के पीने के काम आता है जिस जल को पीने से हमारी प्यास बुझती है, दूर दूर से लोग नर्मदा नदी की संस्कृति को देखने के लिए आते है और नर्मदा नदी की संस्कृति को देखकर आनंद प्राप्त करते है.

यदि नर्मदा नदी की संस्कृति का आनंद प्राप्त करना है तो नर्मदा नदी के तट पर अवश्य जाना चाहिए. जब हम नर्मदा नदी के तट पर जायेगे तब हम नर्मदा नदी की संस्कृति को देखकर अपने जीवन में खुशी प्राप्त करेंगे.

कुछ लोग नर्मदा नदी के तट पर जाकर नर्मदा नदी के पानी मे गंदे पदार्थ डालकर नर्मदा नदी के जल को दूषित कर देते हैं. आज हम सभी को मिलकर भारत की संस्कृति को जीवित रखने की आवश्यकता है जिसके लिए हमे यह प्रण लेना चाहिए कि हम नर्मदा नदी के जल में कूड़ा करकट नही डालेंगे क्योंकि भारतीय संस्कृति को बचाने का दायित्व हम सभी का है.

नर्मदा नदी की संस्कृति से हम सभी लोगों की आस्था जुड़ी हुई है यह आस्था आने वाले समय में भी बरकरार रहे इसके लिए हमें नर्मदा नदी की सुरक्षा करना चाहिए. आने वाली पीढ़ी को भी नर्मदा नदी का शुद्ध जल प्राप्त हो और वहां की संस्कृति सभी को देखने को मिले इसके लिए हमें नर्मदा नदी की स्वच्छता बनाये रखने की जरूरत है.

नर्मदा नदी से कई लोगों की आस्था जुड़ी हुई है और कई लोग नर्मदा नदी के जल पर भी जीवित हैं. जब नर्मदा नदी के आसपास रहने वाले किसानों को जल की आवश्यकता होती है तब वह नर्मदा नदी के जल से अपने खेतों में पानी डालते हैं जिससे कि उनको अनाज प्राप्त होता है वहां के आसपास के लोगों को नर्मदा नदी का स्वच्छ जल पीने के लिए प्राप्त होता है.

भारत सरकार के द्वारा नर्मदा नदी को स्वच्छ करने के लिए कई तरह की योजनाएं भी बनाई गई है. भारत सरकार के द्वारा नर्मदा नदी को स्वच्छ स्वच्छ बनाए रखने के लिए काफी पैसा खर्च किया जाता है, उसके साथ साथ कई लोग नर्मदा नदी की स्वच्छता में अपना महत्वपूर्ण योगदान देते हैं क्योंकि हम सभी जानते हैं कि आने वाले समय में यदि हमें नर्मदा नदी की संस्कृति को बचाए रखना है तो नर्मदा नदी को स्वच्छ रखना बहुत ही जरूरी है.

नर्मदा नदी का पानी भारत के सभी शहरों, गांवो तक पहुंचाया जाता है जिससे की सभी को नर्मदा नदी का स्वच्छ जल पीने को मिले इसलिए नर्मदा सिर्फ नदी नहीं है बल्कि हमारी संस्कृति है.

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह सुंदर लेख नर्मदा एक नदी नहीं संस्कृति है विषय पर लेख आपको कैसा लगा इसके विषय में हमें कमेंटस के माध्यम से बताएं जिससे कि हम इस तरह के लेख आप लोगों को आगे भी ला सकें धन्यवाद.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *