अच्छे संस्कार निबंध Ache sanskar essay in hindi

Ache sanskar essay in hindi

दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से अच्छे संस्कार पर लिखे निबंध के बारे में बातचीत करने जा रहे हैं तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस लेख को पढ़कर अच्छे संस्कार पर लिखे निबंध के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं ।

संस्कार शब्द का हमारे जीवन में काफी अधिक महत्व है क्योंकि व्यक्ति के जीवन में संस्कार काफी अहमियत रखते हैं । संस्कार के माध्यम से बच्चों को जीवन जीने का रास्ता बताया जाता है । जब हम अपने बच्चों को बचपन से ही अच्छे संस्कार देते हैं तब वही संस्कार बच्चों का भविष्य बनाता हैं । जब बच्चों का भविष्य अच्छा होगा तब हम और हमारा परिवार खुशी खुशी अपना जीवन व्यतीत करेगा । कुछ परिवार ऐसे होते हैं जिन परिवारों में संस्कार नाम की कोई चीज भी नहीं होती है वह परिवार दुखों के बवंडर में फंसा रहता है ।

बच्चे को हमेशा अच्छे संस्कार देना चाहिए यदि बच्चा कोई गलत कार्य करता है तब उस बच्चे को तुरंत ही टोक देना चाहिए और उस बच्चे को यह समझाने की कोशिश करना चाहिए कि गलत काम करने से परिणाम भी गलत प्राप्त होता है । अच्छे संस्कार जब बच्चे को मिलता है तब वह बच्चा जीवन में सफलता प्राप्त कर आगे बढ़ता है । सुबह जब बच्चा उठता है तब बच्चे को अपने माता पिता के पैर स्पर्श करना चाहिए । इसके बाद कभी भी बच्चे को अपने बड़ों से ऊंची आवाज में बात नहीं करना चाहिए , बड़ों की बात मानना चाहिए ।

जिस बच्चे के अंदर अच्छे संस्कार होते हैं वह अपने माता-पिता से कभी भी झूठ नहीं बोलते हैं ना ही अपने माता पिता को पलट कर जवाब देते हैं । बच्चों को अच्छे संस्कार माता-पिता के माध्यम से प्राप्त होते हैं । बच्चों में जब अच्छे संस्कार नहीं होते हैं तब वह बच्चा बड़ों से बदतमीजी करता है , बड़ों का अनादर करता है । जब कोई बच्चा किसी बड़े के साथ में बदतमीजी करता है तब आसपास के लोग यह कहते हैं कि इस बच्चे में तो संस्कार ही नहीं है । इसके माता-पिता ने इस बच्चे को संस्कार ही नहीं दिए हैं जिस कारण से यह ना तो बड़ों का आदर करता है और ना ही सम्मान करता है ।

जब बच्चा अच्छे संस्कार प्राप्त करता है तब वह बड़ों का आदर करता है और आसपास के लोग कहते हैं कि इसके मां-बाप ने इस बच्चे को कितने अच्छे संस्कार दिए हैं क्योंकि बच्चे के व्यवहार से ही माता-पिता के संस्कारों का पता चलता है ।अच्छे संस्कार बच्चे को बुराइयों से बचाए रखता है । बच्चों के साथ साथ घर के सभी सदस्यों को अच्छे संस्कार प्राप्त होना आवश्यक है यदि बड़ों में अच्छे संस्कार नहीं है तो घर के बच्चों में भी अच्छे संस्कार नहीं होंगे । अच्छे संस्कारों की उत्पत्ति से पूरा परिवार अपना जीवन सुखमय व्यतीत करता है । अच्छे संस्कार जब बच्चे को प्राप्त हो जाता है तब वह सुबह उठकर मंजन करता है , नहा धोकर पूजा पाठ करता है , अपने माता पिता के पैर स्पर्श करता है ।

इसके बाद पढ़ने के लिए स्कूल जाता है स्कूल जाकर अपने गुरुजनों के पैर स्पर्श करता है । स्कूल के गुरु जो बच्चे को पढ़ाते हैं वह पढ़ता है और गुरु से ज्ञान प्राप्त कर अपने जीवन में एक सफल इंसान बनने के लिए आगे बढ़ता है ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह सुंदर लेख Ache sanskar essay in hindi आपको कैसा लगा इसके बारे में हमें कमेंट के माध्यम से बताएं जिससे कि हम आने वाले समय में इस तरह के लेख आप लोगों के समक्ष प्रस्तुत कर सकें धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *