पिकनिक पर निबंध Picnic essay in hindi

Picnic essay in hindi

दोस्तों आज हम पिकनिक के बारे में जानने वाले हैं कि हमें पिकनिक क्यों मनाना चाहिए । यह हमारे लिए क्यों आवश्यक है । पिकनिक मनाने से हमारे जीवन में खुशियां कैसे आती हैं । हम उन पलों को कैसे अपने जीवन में सजाकर रखते हैं । अब मैं आपको यह बताने जा रहा हूं कि मैं जब स्कूल के माध्यम से पिकनिक मनाने के लिए गया था तब मुझे कितनी ख़ुशी मिली थी ।

 picnic essay in hindi
picnic essay in hindi

दोस्तों जब मैं एक्जाम देकर पूरी तरह से फ्री हो चुका था तब मुझे बड़ी थकावट सी लग रही थी लेकिन जैसे ही मेरी एग्जाम खत्म हुए तब मुझे पता चला कि हमारे टीचर स्कूल के माध्यम से पूरे ग्रुप को घुमाने के लिए ले जा रहे हैं। वहां पर सभी एन्जॉय करने के लिए उत्साहित हो रहे हैं । मुझे बड़ी खुशी हुई और मैंने उस पिकनिक पर जाने का फैसला कर लिया था । जब हम सभी के ग्रुप एकत्रित होकर एक बस के माध्यम से पिकनिक मनाने के लिए शिमला के लिए रवाना हुए तब हम सभी ने बस में पड़ा एन्जॉय किया था । जब हम शिमला पहुंच गए थे तब हम सभी एक अच्छे होटल में रुके और वहां पर आराम किया इसके बाद हम शिमला में बर्फ की वादियों में घूमने के लिए चले गए । वहां पर हमने खूब एन्जॉय किया था । वहां पर जब हम बर्फ पर चल रहे थे तब हमें बड़ा ही आनंद आ रहा था ।

हम सभी लोग एकत्रित होकर गाने गा रहे थे, डांस कर रहे थे तब मुझे बड़ा आनंद आ रहा था । मेरे शरीर की पूरी थकावट दूर हो गई थी । मैं यह महसूस करने लगा था कि हमें हर महीने पिकनिक मनाने के लिए जाना चाहिए । हम शिमला के फेमस हर जगह पर घूमने के लिए गए थे । बर्फ की वादी में हमें बड़ा आनंद आ रहा था । सभी मेरे साथी यह कह रहे थे कि यहां के दिन हम कभी भूल नहीं पाएंगे । यह हमारी जिंदगी के सबसे अच्छे पल हैं । हम लोगों ने कैमरे के माध्यम से फोटो खिंचवाए थे । इसलिए मैं सभी से यही कहूंगा कि हम कितने भी व्यस्त हो हमें साल में एक बार तो पिकनिक घूमने के लिए अवश्य जाना चाहिए ।

Essay on picnic with my family in hindi

दोस्तों फैमिली के साथ पिकनिक मनाने के लिए जब हम अपने घर से दूसरे जगह पर जाते हैं तो हमें बड़ा ही आनंद आता है । अब मैं आप को यह बताने जा रहा हूं कि जब मैं अपने फैमिली के साथ पिकनिक मनाने के लिए शिमला गया था तब मुझे कितनी खुशी मिली थी । मेरे साथ साथ पूरे परिवार ने उस खुशी को महसूस किया था । दोस्तों हम सभी फैमिली के लोगों ने पिकनिक पर जाने से पहले योजना बनाई थी कि हम सभी को अब कहीं पर घूमने के लिए जरूर जाना चाहिए । हमने एक बस को बुक किया और उस बस के माध्यम से हम सभी फैमिली वाले शिमला जाने के लिए रेडी हो गए और हम सभी उस बस में बैठकर शिमला जाने के लिए तैयार हो गए । वह बस हमारे घर से चल दी थी । हमारे घर से शिमला के बीच में हम ने बड़ा ही एन्जॉय किया था ।

बस में डांस , गाना और तरह-तरह की कविता , कहानी के साथ एन्जॉय करते गए थे । जब हम शिमला पहुंचे तो हम सभी फैमिली वाले वहां पर एन्जॉय करने लगे हम बर्फ की वादियों में घूमते रहते थे और शिमला की सभी फेमस जगह पर घूमने के लिए गए थे । हम वहां पर कई तरह के खेल खेलते रहे और हमें बड़ा मजा आ रहा था। मैं यह सोच रहा था कि इस तरह की पिकनिक हम सभी को प्रतिवर्ष मनाना चाहिए जिससे हमारा शरीर आराम महसूस कर सकें । जब हम पूरी फैमिली के साथ शिमला पहुंचे तो हम सभी फैमिली को यह महसूस हो रहा था कि हम बड़े खुशनसीब हैं कि हम सभी इकट्ठे होकर पिकनिक मनाने के लिए यहां पर आए हुए हैं। जब बर्फ पर हम चल रहे थे तो हमें ऐसा लग रहा था कि हम जन्नत में आ गए हो ।

हम सभी फैमिली वाले इस पिकनिक को भुला नहीं पाएंगे और यह हमारी जिंदगी के सबसे हसीन पल हैं । इन हसीन पलों को हमने बड़ी खुशी से जिया है और मैं यही कहूंगा कि हम सभी लोगों को अपनी फैमिली के साथ प्रति वर्ष में कहीं ना कहीं पर पिकनिक मनाने के लिए अवश्य जाना चाहिए । जिससे हमें जीवन की सभी खुशी मिलेगी और हमारा शरीर थकान से मुक्त हो सके । जब हम कई बार पिकनिक मनाने के लिए घूमने के लिए जाते हैं तो वहां पर हमारा माइंड फ्रेश हो जाता है। हमें ऐसा लगता है कि हम सारी परेशानी घर पर छोड़ कर के यहां पर शांत माहौल में आ चुके हैं और हमें यहां पर किसी भी तरह की कोई भी परेशानी का एहसास नहीं होता है ।

Essay on picnic with friends in hindi

दोस्तों अब मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि जब मैं अपने दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने के लिए वैष्णो देवी घूमने के लिए गया था तब मुझे कितनी खुशी मिली थी । हम सभी दोस्तों ने 1 महीने पहले से ही वैष्णो देवी जाने का प्रोग्राम बनाया था और हम सभी ने 1 महीने पहले से ही ट्रेन की टिकट बुक कर दी थी। 1 महीने बाद जब हम ट्रेन से जम्मू की ओर रवाना हुए तब हम सभी दोस्तों ने ट्रेन में बड़ी मस्ती के साथ समय व्यतीत किया । हम सभी बड़े खुश थे कि हम एक साथ घूमने के लिए एवं पिकनिक मनाने के लिए जा रहे हैं । हम सभी दोस्तों ने अपने घर से तरह तरह के व्यंजन बनवाकर साथ में लेकर आए थे और सभी एक दूसरे के व्यंजनों को खा कर एन्जॉय कर रहे थे। जब हम जम्मू स्टेशन पर पहुंचे तब हम सभी दोस्त जम्मू से कटरा की ओर एक बस के माध्यम से रवाना हुए और कटरा में पहुंचे तो हम सभी दोस्त एक होटल में रुके थे, होटल पर आराम किया था ।

आराम करने के बाद सुबह के समय हम सभी मित्रों ने योजना बनाई थी अब हमें वैष्णो देवी की यात्रा प्रारंभ करना चाहिये।हम सभी ने वैष्णो देवी की यात्रा प्रारंभ की और ऊपर पहुंच कर माता वैष्णो देवी के दर्शन किए , गर्भ जून गुफा मैं जा कर दर्शन किए । वहां से जब हम नीचे उतरकर आ रहे थे तब हम ने बड़ा ही एन्जॉय किया था । हम सभी ने फिर होटल में खाना खाया एवं खाने के बाद जब हम वापस जम्मू स्टेशन पर पहुंचे और वहां से ट्रेन के द्वारा मथुरा में घूमने के लिए गए तब हमें बड़ा आनंद महसूस हो रहा था । मथुरा घूमने के बाद हम सभी मथुरा से दिल्ली की ओर रवाना हुए दिल्ली में मेट्रो ट्रेन से घूमे और तरह-तरह के तीर्थ स्थल घूम कर हम सभी मित्रों ने एन्जॉय किया था। दिल्ली घूमने के बाद हम सभी अपने अपने घर पर वापस चले गए । यह पल मुझे हमेशा याद रहेगा और हम हर साल कहीं ना कहीं पर पिकनिक मनाने के लिए अवश्य जाएंगे । वैष्णो देवी के साथ साथ हम आगरा , जयपुर , शिमला मैं भी पिकनिक मनाने के लिए जा चुके हैं ।

दोस्तों यह लेख picnic essay in hindi आपको पसंद आए तो सब्सक्राइब जरूर करें धन्यवाद।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *