मौलिक कर्तव्य पर निबंध maulik kartavya essay in hindi

Maulik kartavya par nibandh

हमारे देश के संविधान में कई ऐसे नियम कानून बनाए गए हैं उन नियम कानून के हिसाब से हमारे देश के लोग अपना जीवन जीते हैं. हमारे देश के सभी लोग भारत के संविधान का पालन करते हैं और संविधान के दायरे में रहकर काम करते हैं । आज हमारे देश के संविधान में मौलिक कर्तव्य है पहले यह मौलिक कर्तव्य हमारे संविधान में नहीं थे लेकिन 42 वें संशोधन के अधिनियम 1976 के द्वारा अनुच्छेद 51 और भाग 4 को जोड़ा गया जिसमें 10 मोलिक कर्तव्यों का उल्लेख किया गया है जिससे हमारे देश के सभी लोग हमारे संविधान का पालन कर उनका आदर करें ।

image source-http://www.studycircle247.com

जब हमारा राष्ट्रीय गीत गाया जाता है, राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है तो सभी उसका आदर करें और देश को स्वतंत्रता दिलाने के लिए जिन महापुरुषों ने आंदोलन किया और अपनी जान गवाई है उनके आदर्शों को अपने ह्रदय में बसाएं, उनको याद करते रहे ये हमारे कर्तव्य है ।

हमारे देश की एकता और सामाजिक अखंडता बनी रहे और सभी धर्म के लोग एकजुट एकता के साथ रहे और हमारे ह्रदय के अंदर देश भक्ति की भावना होनी चाहिए और हम सभी लोग मिलकर राष्ट्र हित में कार्य करें जिससे हमारे देश का विकास हो और हमारा राष्ट्र विकास की ऊंचाइयों पर पहुंच सकें । हमारे देश में कई धर्म के लोग रहते हैं और हम सभी को यह प्रयास करना चाहिए की हम कभी भी धर्म के नाम पर आपस में ना लड़े और सभी एकजुट होकर रहें । हमारे देश की स्त्रियों का सम्मान करें।

हमारे भारत की संस्कृति का सम्मान करें और उसकी रक्षा करे । हमारे देश के पर्यावरण को सुरक्षित रखें वन , जीव , नदी , तालाब , समुद्रों आदि की रक्षा करें जिससे हमारा पर्यावरण सुरक्षित रहे क्योंकि पर्यावरण के द्वारा ही हम को शुद्ध वायु और शुद्ध जल प्राप्त होता है । हमारे देश की संपत्ति को नुकसान ना पहुंचाएं और उसकी सुरक्षा करें. हमारे देश के नागरिक हिंसा से दूर रहें । हमारे देश के सभी नागरिक सामाजिक क्षेत्रों में आगे बढ़े जिससे राष्ट्र निरंतर विकास की ओर बढ़े और हमारे देश के नागरिक अपने बच्चों को स्कूल में शिक्षा दिलाएं जिससे वह शिक्षित होकर अपने देश को आगे बढ़ने में योगदान दें । यह कर्तव्य अगर हम सभी नागरिक निभाने लगे तो हमारा देश ऊंचाइयों पर पहुंच जाएगा।

भारत के सभी नागरिकों को मौलिक कर्तव्य का पालन करना चाहिए जिससे हमारा देश विकास करे. यह कर्तव्य समाज की भलाई के लिए बनाए गए है. जब हम मौलिक कर्तव्यों का पालन करेंगे तो हम कई क्षेत्र में आगे बढ़ सकेंगे. जो व्यक्ति अपने कर्तव्यों का पालन करता है वह वास्तव में आगे बढ़ता है क्योंकि वह अपनी जिम्मेदारियों को समझता है.

हमें बताये की ये लेख maulik kartavya essay in hindi आपको कैसा लगा.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *