मिट्टी की आत्मकथा पर निबंध Mitti ki atmakatha in hindi

Mitti ki atmakatha in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं मिट्टी की आत्मकथा पर हमारे द्वारा लिखित काल्पनिक आर्टिकल दोस्तों हम सभी मिट्टी को बहुत ही महत्व देते हैं मिट्टी हम भारतीयों को बहुत ही प्रिय हैं चलिए पढ़ते हैं मिट्टी की आत्मकथा पर हमारे द्वारा लिखित इस आर्टिकल को।

Mitti ki atmakatha in hindi
Mitti ki atmakatha in hindi

मैं मिट्टी हूं मेरे ऊपर ही मनुष्य, जीव जंतु, पेड़ पौधे सभी निवास करते हैं लोग मुझे सबसे बढ़कर मानते हैं, मुझे मां समझते हैं, मुझे सम्मान देते हैं और अपने सिर पर मेरे द्वारा तिलक लगाना गर्व महसूस करते हैं। किसान मुझ मिट्टी पर ही फसलें उगाता है वह गेहूं, चना, जोहार, सोयाबीन जैसी फसलें उगाकर अपनी आवश्यकताओं को पूरा करता है। मुझ मिट्टी में से ही खनिज पदार्थ निकलते हैं कई पेड़ पौधे जो तरह-तरह के मीठे मीठे फल मनुष्य और जीव जंतु के लिए देते हैं यह पेड़ पौधे मुझ मिट्टी में ही उगाए जाते हैं। हर किसी के लिए मैं मिट्टी बहुत ही महत्वपूर्ण हूं. बहुत से लोग मेरे द्वारा ही अपने घर का निर्माण करते हैं, मिट्टी से बनने वाले कुछ बर्तन भी काफी उपयोगी होते हैं, बहुत से जीव मेरे अंदर निवास करते हैं।

एक किसान के लिए मिट्टी सोने की तरह बहुत ही मूल्यवान होती है वास्तव में मुझे गर्व है कि मैं सभी जीव जंतु, मनुष्य, पेड़ पौधों के लिए बहुत ही उपयोगी हूं लेकिन आजकल मनुष्य अपने निजी स्वार्थ के लिए मुझ मिट्टी में कुछ ऐसे हानिकारक पदार्थ डाल रहा है जिससे लगातार मेरी उर्वरक क्षमता कमजोर पड़ रही है, मेरे अंदर कई जीव नष्ट हो रहे हैं, कई तरह की प्रदूषण की वजह से मुझे काफी नुकसान हो रहा है। हर एक मनुष्य को मेरा महत्व समझना चाहिए और मृदा में हानिकारक पदार्थ आदि नहीं छोड़ना चाहिए हर किसी को मुझ मिट्टी का महत्व समझना चाहिए।

दोस्तों Mitti ki atmakatha in hindi आर्टिकल आपको कैसा लगा आप हमे कमेंट्स के जरिये जरुर बताये.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *