छाते की आत्मकथा पर निबंध Chata ki atmakatha essay in hindi

Chata ki atmakatha essay in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं छाते की आत्मकथा। यह एक काल्पनिक निबंध है आप इसे जरूर पढ़ें तो चलिए पढ़ते हैं आज के इस निबंध को, मैं एक छाता हूं लोगों को बरसात के मौसम में मेरी याद आ ही जाती है जब पानी बरस रहा होता है और लोगों को अपने काम पर या बाजार में जाना होता है तो लोग मुझ छाता का उपयोग करके यानी छाता को अपने सिर के ऊपर लगाकर बरसा के पानी से बच पाते हैं

Chata ki atmakatha essay in hindi
Chata ki atmakatha essay in hindi

वास्तव में बरसात के मौसम में अगर मैं ना होऊ तो लोगों के कई सारे कार्य रुक जाएंगे क्योंकि तेजी से आने वाले वर्षा के पानी की वजह से मेरे बिना लोगों का घर से निकलना भी मुश्किल हो जाता है। बरसात के मौसम में, मैं हर किसी के लिए बहुत ही मददगार साबित होती हूं मैं काफी सालों से लोगों के लिए मददगार साबित हुई हूं। आज बाजार में मेरे कुछ रूप और भी देखने को मिलते हैं फोल्डिंग वाली छतरी भी मेरा ही एक रूप है जो कि आजकल के ज्यादातर लोग पसंद करते हैं। लोग मुझ छाता का उपयोग गर्मी के मौसम में भी धूप से बचने के लिए करते हैं लेकिन बरसात के मौसम के अलावा ज्यादातर हर मौसम में लोग मेरा इस्तेमाल ना के बराबर ही करते हैं। मैं और मौसम में घर पर पड़ी पड़ी बोर हो जाती हूं मैं हमेशा बरसात के मौसम की याद करती जाती हूं कि कब बरसात आए और कोई मुझे खोलकर वर्षा की बूंदों में ले जाकर मुझे ठंडक महसूस करवाए। मुझे लोगों की मदद करना काफी पसंद है मैं हर आदमी और महिला को पानी से भीगने से बचाती हूं जिससे मुझे अपने आप में खुशी महसूस होती है।

मैं जीवन भर दूसरों की मदद करती जाती हूं, मैं बाजार में कई रंगो की भी होती हूं लेकिन ज्यादातर लोग काले रंग का छाता पसंद करते हैं। कई बार जब बरसात के मौसम में बाहर से अपने घर जाते हुए लोगों की में मदद करती हूं क्योंकि जब बरसात के मौसम में घर जाते समय तेजी से पानी बरसता है तो लोगों को कई परेशानी होती हैं वह कई कई घंटों तक खड़े रहते हैं लेकिन यदि मैं उनके साथ होती हूं तो लोगों को अपने घर पहुंचने में कोई भी समस्या नहीं होती है वह आराम से मुझमें छुपकर घर पहुंच जाते हैं वास्तव मे मैं बहुत ही खुशनसीब हूं कि मैं ज्यादा से ज्यादा लोगों की मदद कर पाती हूं।

दोस्तों ये आर्टिकल Chata ki atmakatha essay in hindiआपको पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले और हमारा Facebook पेज लाइक जरूर करे और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि यह आर्टिकल आपको कैसा लगा।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *