पहिये की आत्मकथा Pahiye ki atmakatha in hindi

Pahiye ki atmakatha in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं पहिए की आत्मकथा पर लिखित हमारे द्वारा एक काल्पनिक आर्टिकल आप इसे जरूर पढ़ें चलिए पढ़ते हैं पहिए की आत्मकथा पर हमारे द्वारा लिखित इस काल्पनिक आर्टिकल को।

Pahiye ki atmakatha in hindi
Pahiye ki atmakatha in hindi

मैं एक कार का पहिया हूं मैं कार में चार पहियों के साथ में लगा रहता हूं. कार का मालिक कार में बैठकर हम पहियों के जरिए एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंच पाता है मेरी जिंदगी में घूमना फिरना बहुत अधिक है मैं अपनी जिंदगी में काफी खुश हूं क्योंकि मुझे कई बड़े-बड़े शहरों और ग्रामीण इलाकों की सैर करने का मौका मिलता है. कई लोगों से मेरा परिचय भी होता है मुझमें हवा भरी जाती है जिसकी वजह से मैं बहुत ही फुर्ती से अपने मार्ग पर चल पाता हूं मैं अपनी जिंदगी में काफी खुश हूं। मेरे बगैर कार का कोई मतलब ही नहीं होता मेरी स्थिति जब ठीक होती है तभी कार ठीक से चल पाती है. जब भी मालिक कहीं बाहर जा रहा होता है तो मेरे पहियों में हवा चेक करवाकर डलवाता जरूर है समय-समय पर वह हमको चेक करता रहता है. मैं अपनी जिंदगी में काफी खुश हूं। मेरा निर्माण लोहार ने किया लोहार ने गोल पहिया बनाया और उसके बाद एक कारखाने में मुझ लोहे के पहिए पर रबड़ चढ़ाई गई और फिर मुझमें हवा भरी गई और फिर मुझे इस कार में लगाया गया वास्तव में यह मेरे लिए बहुत ही अच्छा है मैं अपने और तीन पहियों के साथ बहुत खुश हूं मैं अपने मालिक से कुछ भी अपेक्षा नहीं रखता वह बस समय-समय पर मेरे अंदर भरी हुई हवा को चेक करता रहे।

एक बार मेरा मालिक मुझे एक जंगल के इलाके में भी ले गया था तो एक कांटे ने मेरे अंदर भर रही हवा को कम कर दिया जिससे मेरी स्थिति खराब हो गई तब पास में ही दुकान पर मुझमें हवा भरवाई गई और फिर मैं अपने मालिक के साथ मार्ग पर चल पड़ा. हर किसी की तरह मेरी भी एक ना एक दिन उम्र पूरी होती है मैं भी एक दिन बूढ़ा जरूर हो जाऊंगा और मेरा मालिक मुझको निकाल कर एक नया पहिया अपनी कार में लगाएगा. खैर बुढ़ापा तो हर किसी को आता है मैं अपने अभी तक के जीवन से संतुष्ट हूं, मैं बस यही चाहता हूं कि जिस तरह से मैं हमेशा अपने जीवन में भागता रहता हूं आप भी अपने जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए निरंतर प्रयत्न करते रहे. आपने अभी तक मेरी आत्मकथा सुनी इसके लिए आप सभी को मेरा धन्यवाद।

दोस्तों हमे बताये की Pahiye ki atmakatha in hindi आपको कैसा लगा.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *