महात्मा गांधी के सिद्धांत mahatma gandhi ke siddhant in hindi

mahatma gandhi ke siddhant in hindi

दोस्तों महात्मा गांधी जी एक ऐसे महापुरुष थे जिन्होंने अपना सारा जीवन देश के लिए ही निछावर कर दिया था उन्होंने जो भी किया देश के लिए ही किया. उन्होंने अपने सिद्धांतों पर चलकर देश को आजादी दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई वास्तव में महात्मा गांधी जैसे महापुरुष कभी कभार ही इस दुनिया में जन्म लेते हैं।

mahatma gandhi ke siddhant in hindi
mahatma gandhi ke siddhant in hindi

महात्मा गांधी जी ने अपनी शुरुआती पढ़ाई भारत में की उसके बाद इंग्लैंड में बैरिस्टर की पढ़ाई करने के लिए गए वह चाहते तो विदेश में या भारत में उच्च पद पर आश्रित हो सकते थे और अपना जीवन गुजर-बसर कर सकते थे लेकिन महात्मा गांधी ने अपने देश के लिए ही अपना सारा जीवन समर्पित कर दिया। महात्मा गांधी जी ने देश को आजादी दिलाने के लिए अपने प्राणों की परवाह नही की। आज हम महात्मा गांधी जी के कुछ सिद्धांत आप सभी के समक्ष प्रस्तुत करेंगे। तो चलिए पढ़ते हैं आज के इस आर्टिकल को।

अहिंसा

महात्मा गांधी जी अहिंसा के मार्ग पर चलते थे उनका मानना था कि अहिंसा के जरिए ही हम देश को स्वतंत्र करा सकते हैं। वास्तव में उन्होंने ये करके भी दिखा दिया उन्होंने बिना किसी का रक्त बहाए हथियारों का उपयोग किए बिना ही अहिंसा के दम पर भारत को आजादी दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है उन्होंने अहिंसा के मार्ग पर चलकर कई आंदोलन किये और अपने देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हालांकि देश के अन्य स्वतंत्रता सेनानी ऐसे थे जो अहिंसा के पक्ष में नहीं थे लेकिन महात्मा गांधी जी ने ये साबित कर दिया कि अहिंसा से भी हम देश से अंग्रेजों को बाहर निकाल सकते हैं और भारत देश को आजादी दिला सकते हैं।

सत्य

महात्मा गांधी जी हमेशा सत्य बोलते थे वह सत्य के मार्ग पर चलते थे उनका मानना था कि सत्य ही भगवान है। सत्य के मार्ग पर चलकर हम विजय हो सकते हैं वह कभी भी सत्य के मार्ग पर चलने के लिए डरते नहीं थे।

सादगी जीवन

महात्मा गांधी जी एक सादगी जीवन जीते थे वह धोती पहनते थे। उनकी वेशभूषा एकदम साधारण थी कभी-कभी जब कोई उनसे मिलने के लिए आता था तो महात्मा गांधी के सादगी जीवन की वजह से वह उन्हें पहचान भी नहीं पाता था कि इतना बड़े महापुरुष एकदम सादा जीवन व्यतीत करते है।

प्रार्थना करना

महात्मा गांधी जी प्रार्थना करने में विश्वास रखते थे उनका मानना था कि ईश्वर को किसी ने नहीं देखा है हमें ईश्वर से प्रार्थना करनी चाहिए और हमेशा सत्य के मार्ग पर चलना चाहिए क्योंकि सत्य ही ईश्वर है।

ब्रह्मचर्य का पालन करना

महात्मा गांधी जी की शादी बचपन में ही हो गई थी लेकिन कुछ सालों बाद वह पूर्णता ब्रह्मचर्य का पालन करते थे महात्मा गांधी का मानना था कि ब्रह्मचर्य ईश्वर के करीब आने का एक जरिया है। उन्होंने अपने जीवन में ब्रह्मचर्य व्रत का पूर्णता पालन किया था।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल mahatma gandhi ke siddhant in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *