करवा चौथ पूजा विधि व कहानी Karwa chauth puja vidhi & story in hindi

Karwa chauth puja vidhi in hindi

दोस्तों करवा चौथ का व्रत महिलाओं का एक बहुत ही महत्वपूर्ण व्रत है महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र की कामना के लिए करवा चौथ का व्रत रखती हैं यह व्रत कार्तिक महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को रखा जाता है इस व्रत को रखने से परिवार में सुख शांति आती है और पति की लंबी उम्र होती हैं।

Karwa chauth puja vidhi & story in hindi
Karwa chauth puja vidhi & story in hindi

करवा चौथ के दिन महिलाएं सुबह स्नान आदि करके व्रत आरंभ करती हैं दिनभर वह बिना खाए पिए रहती हैं और सजती संवरती हैं और सोलह श्रृंगार करती हैं।महिलाएं इस दिन विशेष कपड़े पहनती हैं और गहने भी पहनती हैं उनकी सुंदरता में भी इस दिन चार चांद लग जाते हैं। शाम को सभी औरतें अपनी पूजा आरंभ करती हैं इस दिन औरतें अपने घर के मंदिर की दीवार पर गेरू से फलक बनाती हैं वो शिव शंकर, पार्वती और श्री गणेश जी की आराधना करती हैं उनका पूजन करती हैं और रात्रि में चंद्रमा के दर्शन करती हैं उसके बाद ही उनका व्रत पूर्ण हो पाता है इसके बाद स्त्रियां जल और अन्न ग्रहण करती हैं और अपने व्रत को पूर्ण करती हैं।

करवा चौथ व्रत कथा karwa chauth katha hindi

एक नगर में एक साहूकार रहता था उसके सात पुत्र और एक बेटी थी। एक दिन की बात है जब करवा चौथ का व्रत था सातों भाइयों की पत्नियां और साहूकार की पुत्री ने भी करवा चौथ का व्रत रखा था शाम के समय जब साहूकार के सभी पुत्र खाना खाने बैठे थे तब उन सातों भाइयों ने अपनी बहन से भोजन करने को कहा लेकिन बहन ने यह कह दिया कि आज करवा चौथ का व्रत है मैं चांद निकलने पर ही अन्न जल ग्रहण करूंगी तव सातों भाइयों से अपनी बहन का चेहरा देखा नहीं गया उन्होंने एक जगह आग जलाई और अग्नि का प्रकाश चंद्रमा के रूप में दिखाते हुए कहा कि देखो बहन चंद्रमा उग गया है अब तुम अपना व्रत पूर्ण करो और हमारे साथ भोजन करो उन सातों भाइयों की बात मानकर बहन ने अपना व्रत पूर्ण किया और भोजन किया इससे उसका व्रत खंडित हो गया।

कुछ दिनों बाद उन सातों भाइयों की बहन के पति की तबीयत खराब हो गई क्योंकि भगवान उसकी पत्नी से रुष्ट तो चुके थे और परिवार का पूरा धन उसकी बीमारी में लगने लगा। तभी सातों भाइयों की उस बहन को पता लगा कि उसने करवा चौथ के व्रत को भंग किया है उसके भाइयों ने उसे अग्नि का झूठा चांद दिखाया था जिस वजह से उसका व्रत भंग हुआ था उस सातों भाइयों की बहन ने फिर से करवा चौथ का व्रत श्रद्धा भाव से रखा तो उसके पति की तबीयत ठीक हो गई और वह फिर से स्वस्थ होकर अपना जीवन जीने लगा उनके परिवार में फिर से खुशहाली आ गई इस तरह से कोई करवा चौथ का व्रत अगर रखता है तो घर में खुशहाली आती है और पति की लंबी उम्र होती है।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Karwa chauth puja vidhi & story in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *