शनि देव की जन्म की कथा Shani dev birth story in hindi

Shani dev birth story in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं शनि देव की जन्म की कथा। दोस्तों हम सभी शनिदेव को जानते हैं कहते हैं कि शनि जिस व्यक्ति की भी राशि पर आ जाते हैं उसके दिन खराब होना शुरू हो जाते हैं वैसे शनि महाराज बहुत ही उदार हृदय वाले होते हैं लेकिन अगर कोई गलत कार्य करें तो वह शनि के प्रकोप से नहीं बच पाता चलिए पढ़ते हैं शनि देव की जन्म की कथा को

Shani dev birth story in hindi

शनि देव के पिता सूर्य देव हैं दरअसल भगवान सूर्य देव ने दक्ष की कन्या संध्या के साथ विवाह किया था संध्या सूर्यदेव के तेज को सहन कर पाती थी इसलिए संध्या ने एक दिन विचार बनाया और तपस्या की उन्होंने अपनी प्रतिभा को शनिदेव के पास भेजा उस प्रतिभा का नाम छाया रखा। अब वह छाया शनिदेव के पास जाकर रहने लगी दरअसल बह संध्या की तरह ही दिखती थी इसलिए सूर्य देवता ने उन्हें नहीं पहचाना। इधर संध्या तपस्या करने लगी संध्या की भी संतान थी उनमें से मृत्यु के भगवान यमराज भी एक थे। कुछ समय बाद संध्या की प्रतिभा यानी छाया ने भी 3 बच्चों को जन्म दिया जिनमें से एक शनि देव भी थे दरहसल छाया भगवान शिव की भक्तनी थी। एक समय वह भगवान शिव की तपस्या कर रही थी तभी भगवान सूर्य की तेज रोशनी की वजह से उनकी कोख में स्थित शनि देव का रंग काला हो गया और जब उनका जन्म हुआ तो वह काले हुए।

जब सूर्य देव ने शनिदेव को देखा तो उनका काला रंग देखकर उन्होंने संदेह जताया कि क्या सच में शनि का जन्म उनके पास से ही हुआ है तव सूर्य देवता बहुत ही क्रोधित हो गए थे तभी शनि ने अपनी दृष्टि सूर्य पर डाली तो सूर्य देवता भी काले पड़ गए और सूर्य ने इसके लिए भगवान शिव की तपस्या की और उनका रंग पहले की तरह हो गया। भगवान शिव ने सूर्य देवता को पूरी बात बताई तो सूर्य देवता शनि के प्रति खुश हुए। शनि देवता बचपन से ही भगवान शिव की सेवा करने लगे उनकी भक्ति को देखकर भगवान शिव ने उन्हें पृथ्वी पर एक ग्रह के रूप में भेज दिया। अब शनि देव पर पृथ्वी पर लोगों द्वारा किए गए कर्मों के प्रभाव को वितरित करने की जिम्मेदारी है अगर आप अच्छे कार्य करते हैं तो शनिदेव की कृपा आप पर होती है और इनका आशीर्वाद आपको प्राप्त होता है

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Shani dev birth story in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *