अंतरिक्ष में भारत पर निबंध India in space essay in hindi

India in space essay in hindi

antriksh mein bharat par nibandh-दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों स्कूल के विद्यार्थियों के लिए हम रोजाना नए नए विषय पर निबंध प्रस्तुत करते रहते हैं आज भी हम स्कूल के विद्यार्थियों के लिए एक नया निबंध लाए हैं आज का हमारा अंतरिक्ष में भारत पर लिखा गया निबंध विद्यार्थी के लिए बहुत ही हेल्पफुल है। विद्यार्थी अपनी स्कूल की परीक्षा में निबंध लिखने के लिए यहां से अच्छी जानकारी पा सकते हैं तो चलिए पढ़ते है हमारे आज के इस निबंध को

India in space essay in hindi
India in space essay in hindi

जब से दुनिया बनी है तब से लेकर आज तक इस दुनिया में कई तरह के परिवर्तन हो रहे हैं लोग बदल रहे हैं, लोगों की सोच बदल रही है पहले जहां हम सभी एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए बैलगाड़ियों और साईंकिलो का उपयोग करते थे लेकिन इस वैज्ञानिक युग में सब कुछ परिवर्तन हो गया है आज हम एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए मोटरसाइकिल, कार, बस आदि का उपयोग ज्यादा करते हैं इसके अलावा भी विज्ञान ने हमें बहुत सारी चीजें उपलब्ध करवाई हैं जिनसे हमारा समय भी बचा है और हम जीवन में आगे बढ़े हैं लेकिन इन सभी अविष्कारों के अधिक उपयोग करने से बहुत ज्यादा प्रदूषण भी होता है। कई वैज्ञानिकों ने अपने वैज्ञानिक शोधों के जरिए यह कहा है कि आने वाले समय में मनुष्य का इस पृथ्वी पर रहना लगभग नामुमकिन होगा मनुष्य को रहने के लिए किसी दूसरे ग्रह पर जाना होगा इस तरह की समस्याओं से निपटने के लिए और आने वाली समस्याओं का सामना करने के लिए विज्ञानिकों ने कई तरह की खोज करना शुरू कर दी है

इस कार्य में देश दुनिया के बहुत सारे वैज्ञानिकों का योगदान है अमेरिका और रूस जैसे देशों के वैज्ञानिकों ने इसमें कई तरह की पहल की और हमारा भारत देश भी इसमें पीछे नहीं है भारत देश में इसी वजह से कि अंतरिक्ष विज्ञान पर सही ढंग से काम हो सके इसीलिए 1969 को इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाईजेशन की स्थापना की गयी। भारत में सन 1981 में एप्पल नामक उपग्रह अंतरिक्ष में छोड़ा गया यह उपग्रह अब भी अंतरिक्ष में परिक्रमा कर रहा है इसके अलावा भी अंतरिक्ष में और भी उपग्रह छोड़े गए इसमें भारत का महत्वपूर्ण योगदान है। भारत ने अंतरिक्ष में खोज के लिए कई लोगों को अंतरिक्ष की यात्रा करने के लिए भेजा जिनका उद्देश्य अंतरिक्ष में खोज करके हमारे देश को कई तरह से लाभान्वित करने का था। सन 1984 में भारत देश के राकेश शर्मा ने अंतरिक्ष की यात्रा की इसके बाद भारत की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला ने भी दो बार अंतरिक्ष की यात्रा की दूसरी बार अंतरिक्ष की यात्रा करने के दौरान उनकी मृत्यु हो गई थी उन्होंने अंतरिक्ष में कई तरह के अनुसंधान किए। इन अनुसंधानों में हमारे भारत देश का महत्वपूर्ण योगदान है इन अंतरिक्ष यात्राओं के जरिए हमें अंतरिक्ष के बारे में कई महत्वपूर्ण जानकारी मिलती हैं। अंतरिक्ष की कई जानकारी हमें पहले भी मिल जाती हैं जिससे हम पहले से ही सुरक्षा कर सकते हैं वास्तव में अंतरिक्ष में हमारे तेजी से कदम बढ़ते जा रहे हैं

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल India in space essay in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *