उल्लू पर निबंध Essay on owl in hindi

Essay on owl in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों अक्सर बच्चों से उनकी स्कूल की परीक्षा में कई जानवर और पक्षियों के बारे में निबंध लिखने के लिए दिया जाता है इसलिए आज हम यहां पर उल्लू पर निबंध लिखने वाले है तो चलिए पढ़ते हैं उल्लू पर लिखे हमारे आज के इस निबंध को

Essay on owl in hindi
Essay on owl in hindi

उल्लू एक बहुत ही बुद्धिमान जीव होता है लोग अक्सर बेवकूफ बनाने को उल्लू बनाना कहते हैं लेकिन वास्तव में ये कहावत सही नहीं है क्योंकि उल्लू एक बुद्धिमान जीव है इसकी आंखें चारों तरफ नहीं घूम पाती इसलिए इसे दूसरी तरफ देखने के लिए अपनी गर्दन को मोड़ना पड़ता है दरअसल उल्लू अपनी गर्दन को काफी पीछे भी मोड़ सकता है यह भोजन के रूप में छिपकली,सांप, चूहे आदि खाता है यह एक ही बार मैं सामने वाले शिकार को निगल जाता है यह दिन में सोता है और रात में जागता है। बहुत से उल्लू अपने से छोटे उल्लूओं को भी खा जाते हैं भारत में उल्लू को मारना अवैध है एक उल्लू कई हजार रुपए में मिलता है। उल्लू के शरीर के कुछ हिस्से का उपयोग कई जादू टोना में भी किया जाता है कुछ लोग उल्लू को अशुभ मानते हैं लेकिन कहते हैं कि उल्लू मां लक्ष्मी जी की सवारी होता है। उल्लू अंधेरे में रहता है उसे देखकर लोग डर भी जाते हैं कुछ देशों में उल्लू को भोजन के रूप में भी खाया जाता है कई लोग उल्लू के बारे में कई बातें भी कहते हैं कि अगर उल्लू हमारे बच्चों के कपड़े ले जाता है तो ये अशुभ होता है।

दीनदयाल शर्मा जी की उल्लू पर कविता poem on owl in hindi

उल्लू होता सबसे न्यारा

दिखे इसे चाहे अंधियारा

लक्ष्मी का वाहन कहलाये

तीन लोक की सैर कराये

 

हलधर का यह साथ निभाता

चूहों को यह चट कर जाता

पुतली को ज्यादा फैलाए

दूर दूर इसको दिख जाए

 

पीछे भी यह देखे पूरा

इसको पकड़ न पाये जमूरा

जग में सभी जगह मिल जाता

गिनती में यह घटता जाता

ज्ञानीजन सारे परेशान

कहाँ गए उल्लू नादान

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Essay on owl in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल poem on owl in hindi कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *