चाणक्य की कहानी Chanakya story in hindi

Chanakya story in hindi

दोस्तों अक्सर हम आचार्य चाणक्य की कई नीतियां पढ़ते हैं लेकिन आज हम चाणक्य के जीवन की एक घटना आपको सुनाने वाले हैं। दोस्तों एक बार आचार्य चाणक्य एक झोपड़ी में रहते थे दरअसल वह एक महामंत्री थे वह चंद्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे लेकिन उनका जीवन एकदम सादगी से भरा हुआ था। एक बार एक व्यक्ति चाणक्य से मिलने आया वह पूछते पूछते उस स्थान पर जा पहुंचा जहां पर चाणक्य निवास करते थे।

Chanakya story in hindi
Chanakya story in hindi

image source-https://en.wikipedia.org/wiki/Chanakya

वह व्यक्ति गंगा नदी के तट पर जा पहुचा। गंगा नदी के तट पर एक व्यक्ति था अचानक से मिलने जाने वाले उस व्यक्ति ने दूसरे व्यक्ति से पूछा कि चाणक्य कहां रहते हैं? उस व्यक्ति ने एक झोपड़ी की ओर इशारा करते हुए कहा कि चाणक्य वहां रहते हैं वह व्यक्ति जब उस झोपड़ी के पास पहुंचा तो उसने देखा कि अंदर कोई भी नहीं था उसे लगा कि चाणक्य तो महामंत्री हैं वह इस स्थान पर नहीं रह सकते जरूर ही इस व्यक्ति ने मुझसे मजाक किया है। कुछ समय बाद उसने देखा की वह व्यक्ति जो गंगा नदी के किनारे था उसके सामने उपस्थित था उस व्यक्ति के पूछने पर गंगा नदी के किनारे से आए हुए उस व्यक्ति ने कहा कि भाई मैं ही चाणक्य हूं। उस व्यक्ति ने चाणक्य से पूछा कि आपकी सादगी का कारण क्या है? आप महामंत्री होते हुए भी इस झोपड़ी में क्यों रहते हो? तब चाणक्य ने कहा कि मैं महामंत्री हूं लेकिन जब तक मैं यह नहीं जानूंगा कि गरीब झोपड़ियों में किस तरह से रहते हैं, उनका दुख दर्द क्या है तब तक मैं उनके दुख दर्द कैसे जान पाऊंगा और उनके लिए कैसे कुछ कर पाऊंगा? चाणक्य की सोच जानकर उस व्यक्ति को काफी अच्छा लगा वह चाणक्य को नमन करते हुए चला गया वास्तव में चाणक्य एक महान ज्ञाता थे उनका ग्रंथ चाणक्य नीति बहुत ही प्रसिद्ध ग्रंथ है।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Chanakya story in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *