राजीव दीक्षित की जीवनी Rajiv dixit biography hindi

Rajiv dixit biography hindi

दोस्तों दुनिया में कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपना पूरा जीवन देश के लिए समर्पित करते हैं, देशहित के लिए कार्य करते हैं उनके लिए अपने राष्ट्र की भाषा मातृभाषा सबसे महत्वपूर्ण भाषा होती है वह अपने जीवन के लिए नहीं बल्कि गरीबों, लाचारों,दूसरों की मदद करने के लिए जीवन जीते हैं ऐसे ही महान इंसान थे राजीव दीक्षित। आज हम इन्हीं के बारे में विस्तारपूर्वक जानने वाले हैं तो चलिए पढ़ते हैं इस महान समाज सेवक और देश प्रेमी राजीव दीक्षित के बारे में शुरू से

Rajiv dixit biography hindi
Rajiv dixit biography hindi

image source-https://totalbhakti.com/all-media/photo/item/14064-rajiv-dixit-10

जन्म और परिवार

राजीव दीक्षित जी का जन्म उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले के ग्राम नाह में सन 30 नवंबर 1967 को हुआ था इनके पिता का नाम राधेश्याम दीक्षित एवं माता का नाम मिथिलेश कुमारी दीक्षित था इनका परिवार स्वतंत्रता सेनानियों मैं से था।

पढ़ाई और कैरियर

राजीव दीक्षित ने अपनी शुरुआती पढ़ाई पास के ही स्कूल से की थी उसके बाद उन्होंने कॉलेज से बीटेक की पढ़ाई की इसके बाद उन्होंने एमटेक की पढ़ाई की। ये शुरुआत से ही पढ़ाई में बहुत ही होशियार थे पढ़ाई करने के बाद उन्होंने विदेशों में भी एक वैज्ञानिक के तौर पर कार्य किया इन्होंने एक विज्ञानिक के तौर पर देश के राष्ट्रपति और वैज्ञानिक डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम जी के साथ में भी कार्य किया है। राजीव दीक्षित एक महान वैज्ञानिक थे लेकिन शुरू से ही इनकी सोच सामाजिक क्षेत्रों में भी थी यह जीवन में अपने देश के लिए,गरीबों के लिए कुछ करना चाहते थे।

सामाजिक कार्यकर्ता और देश प्रेमी के रूप में शुरुआत

राजीव दीक्षित जी को एक बार विदेश में एक सम्मेलन में अपने रिसर्च के ऊपर बताने को कहा गया तो उन्होंने इंग्लिश भाषा में अपने रिसर्च के ऊपर बताना शुरू कर दिया तभी उनके साथी एक वैज्ञानिक ने उन्हें बीच में टोकते हुए कहा कि जब सभी लोग अपनी-अपनी राष्ट्रभाषा में अपने रिसर्च के बारे में बता रहे हैं तो आप भी अपनी भाषा हिंदी में ही यहां पर सभी को बताइए तभी राजीव दीक्षित ने यह भी कहा कि अगर मैं अपनी भाषा में यहां पर बताऊंगा तो इन लोगों को कुछ भी समझ में नहीं आएगा लेकिन उस वैज्ञानिक के कहने पर राजीव दीक्षित जी ने अपना भाषण हिंदी में ही दिया तभी से राजीव दीक्षित ने अपनी मातृभाषा हिंदी को सबसे ज्यादा महत्व दिया। उन्होंने भारत आकर इस और कार्य करना शुरू कर दिया इसी के साथ में इन्होंने देश के लिए कई कार्य किए।

राजीव दीक्षित जी द्वारा किए गए कार्य

राजीव दीक्षित जी ने अपने जीवन में देशहित के लिए कई सारे कार्य किए। इन्होंने देशवासियों को अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी को ही सबसे महत्वपूर्ण समझने के लिए कहा। दरहसल हम सभी हिंदी से ज्यादा इंग्लिश को महत्व देते हैं लोग इंग्लिश को बोलना पसंद करते हैं लेकिन राजीव दीक्षित अपनी मातृभाषा हिंदी के पक्ष में थे वह लोगों को जागरुक करते थे कि हर एक नागरिक हिंदी भाषा को सबसे महत्वपूर्ण भाषा समझे, अपने जीवन में हिंदी भाषा को ही वह अपनाएं अंग्रेजी भाषा को कोई भी व्यक्ति ज्यादा महत्व ना दें क्योंकि हिंदी हमारी मातृभाषा है।

राजीव दीक्षित जी ने देश में फैली मल्टीनेशनल कंपनी के खिलाफ आंदोलन या कार्य किए दरअसल उनका मानना था कि मल्टीनेशनल कंपनी से देश के गरीबों और मध्यम वर्गीय लोगों की स्थिति खराब होगी। मल्टीनेशनल कंपनी देश में आकर बहुत सारा पैसा कमाकर हमारे देश की आर्थिक स्थिति कमजोर करती हैं इसीलिए उन्होंने कई सारी विदेशी कंपनियों के खिलाफ आंदोलन किये। उन्होंने पेप्सी, कोकाकोला आदि के खिलाफ भी कार्य किए। उनका मानना था कि इस तरह के कोल्ड ड्रिंक में कई तरह के हानिकारक पदार्थ मिलाए जाते हैं जिस वजह से आम लोगों के जीवन को, उनके स्वास्थ्य को खतरा है।

राजीव दीक्षित जी एक निडर व्यक्ति थे इसलिए उन्होंने भ्रष्ट लोगों के खिलाफ कई कार्य किए। उन्होंने भ्रष्ट नेताओं के खिलाफ आवाज उठाई वह किसी से नहीं डरते थे वह सत्यवादी थे उन्हें जो बोलना है वह बोलते थे किसी से भी नहीं डरते थे इसीलिए आज राजीव दीक्षित जी को हर कोई उनके कार्यों की वजह से जानता है, उनकी प्रशंसा करता है।

राजीव दीक्षित जी ने अपने देश की आजादी को बनाए रखने के लिए आजादी बचाओ जैसे आंदोलन भी किए जिससे वह देश के नागरिकों की नजरों में एक सम्मानीय व्यक्ति बने। राजीव दीक्षित जी हमेशा देश भक्ति के प्रति, देश के भ्रष्टाचार के विरोध, देश की आजादी के प्रति, विदेशी कंपनियों के खिलाफ कई सारे भाषण दिए।

राजीव दीक्षित जी गाय को गौ माता समझते थे इसीलिए उन्होंने गौ माता के ऊपर एक किताब भी लिखी है इसके अलावा भी राजीव दीक्षित जी ने कई सारी किताबें लिखी हैं जो समाज के विभिन्न विषयों पर हैं इसी के साथ में राजीव दीक्षित जी के कई तरह के भाषणों का सीडी में भी उपलब्ध है। YouTube पर भी हम राजीव दीक्षित जी के कई भाषण सुन सकते हैं।

राजीव दीक्षित जी की मृत्यु

राजीव दीक्षित जी एक महान सामाजिक कार्यकर्ता थे इनकी मृत्यु दिल का दौरा पड़ने के कारण हुई थी लेकिन कई लोगों ने इनकी मृत्यु पर कई तरह की आशंका भी जताई। लोगों का मानना था कि राजीव दीक्षित सत्यवादी थे इसी वजह से उनके सामाजिक एवं विदेशी कंपनियों के कई तरह के दुश्मन थे शायद इसी वजह किसी ने उनसे दुश्मनी निभाई हो और उनकी मृत्यु का कारण हो वास्तव में राजीव दीक्षित एक महान सामाजिक कार्यकर्ता थे यह राजनीति में नहीं आए लेकिन समाज के लिए कई तरह के कार्य उन्होंने किए जो कि देश हित के लिए थे।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Rajiv dixit biography hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *