आरक्षण पर निबंध Aarakshan essay in hindi

Aarakshan essay in hindi

aarakshan ki samasya-हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज का हमारा निबंध स्कूल,कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए परीक्षा में लिखने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण निबंध है इसके जरिए हम जानेंगे आरक्षण के बारे में विस्तृत जानकारी तो चलिए पढ़ते हैं हमारे आज के इस आर्टिकल को

Aarakshan essay in hindi
Aarakshan essay in hindi

आरक्षण क्या है

आरक्षण एक तरह से निम्न वर्ग, महिलाओं की स्थिति सुधारने के लिए बनाया गया है यह एक तरह का ऐसा तरीका है जिससे सभी समान रूप से अपने जीवन को यापन कर सकें और किसी भी तरह का जीवन यापन करने में इन दलितों और महिलाओं को परेशानी का सामना ना करना पड़े यह इन लोगों को मिला एक विशेष अधिकार है।

आरक्षण लागू क्यों किया गया

दरहसल हमारा देश एक बहुत ही विशाल देश है प्राचीन काल से ही हमारे देश में कई समस्याएं थी पहले निम्न वर्ग के लोगों और महिलाओं पर कई तरह के अत्याचार किए जाते थे। गाव के जमींदार या बड़े लोग दलित लोगों के साथ कई तरह का अत्याचार या दुर्व्यवहार करते थे उच्च वर्ग के लोग उनसे एक बंधुआ मजदूर की तरह कार्य करवाते थे, उन्हें कुछ भी नहीं समझते थे, उन्हें अपने से नीचा समझते थे और दलित लोगों को ना ही धार्मिक स्थलों के अंदर जाने दिया जाता था और ना ही उनके साथ भोजन किया जाता था और ना ही उनके घर पर कोई भोजन करता था और अगर गलती से दलित वर्ग का कोई व्यक्ति किसी उच्च जाति के व्यक्ति को छू ले तो वह भी एक तरह से अपशगुन सा माना जाता था।

पहले के जमाने में जो व्यक्ति शिक्षक है उसके बच्चे भी शिक्षक होते थे जो व्यक्ति किसान या जमींदार है उसके बच्चे भी किसान या जमींदार बनते थे जो व्यक्ति कोई व्यापारी है तो उसके बच्चे भी वही बन सकते थे इस तरह निम्न वर्ग या दलित वर्ग के लोगों को कुछ अलग, कुछ अच्छा करने का कोई भी अधिकार नहीं था इनकी स्थिती सुधारने के लिए आरक्षण शुरू किया गया जिसके तहत उन दलित लोगों को विशेष अधिकार दिए गए जिससे कोई भी उनपर अत्याचार ना करें और उनके साथ दुर्व्यावहार ना करें। इसी के साथ में पहले के जमाने में औरतों पर भी कई तरह के अत्याचार या दुर्व्यवहार होते दिखते थे औरतों की सती प्रथा, पर्दा प्रथा जैसी कुप्रथाओं की वजह से स्थिति दयनीय थी इस वजह से भी यह आरक्षण कानून के रूप में अपनाया गया। इस आरक्षण की वजह से आजकल के जमाने में औरतों की स्थिति भी अच्छी हुई है औरत भी आगे बढ़ने लगी है वह भी पुरुषों के समान शिक्षा प्राप्त प्राप्त कर सकती है वह भी अपने हिसाब से कुछ भी कामकाज कर सकती है वह पूरी तरह से आजाद है।कहने का अर्थ ये है कि दलितों और औरतों की स्थिति सुधारने के लिए यह आरक्षण लागू किया गया।

आरक्षण की शुरुआत

अगर हम आरक्षण के इतिहास के बारे में बात करें तो आरक्षण का इतिहास बहुत पुराना है आरक्षण के लिए भीमराव अंबेडकर जी ने भी विशेष प्रयत्न किया और दलितों के लिए आरक्षण के लिए मांग की। आजादी के बाद 10 सालों तक आरक्षण की घोषणा की गई लेकिन उसके बाद लगातार इसका समय बढ़ता गया।

आरक्षण के प्रकार

आरक्षण कई प्रकार का होता है जो हम निम्नलिखित बिंदुओं में जानेंगे

जाति के आधार पर आरक्षण

आरक्षण जाति के आधार पर होता है जो व्यक्ति दलित है या निम्न वर्ग का है उसकी स्थिति को सुधारने के लिए आरक्षण लागू किया गया था जिससे उनकी स्थिति मजबूत हो।

औरतों के लिए आरक्षण

औरतों के लिए भी आरक्षण लागू किया गया दरहसल समाज में औरतों की स्थिति पहले से ही दयनीय है आरक्षण के जरिए समाज में औरतों की स्थिति मजबूत करना है।

धर्म के आधार पर आरक्षण

धर्म के आधार पर भी आरक्षण है अलग अलग धर्मों के लिए आरक्षण अलग-अलग हैं।

शिक्षा के क्षेत्र में आरक्षण

पहले के जमाने में हम देखें तो शिक्षा केवल उच्च वर्ग के लोग ही करते थे निम्न वर्ग के लोगों को शिक्षा करने का या औरतों को शिक्षा प्राप्त करने का कोई भी विशेष अधिकार नहीं था। उच्च वर्ग के लोग दलित लोगों को शिक्षा नहीं प्राप्त करने देते थे वह उनको आगे नहीं बढ़ने देते थे लेकिन शिक्षा में आरक्षण के बाद हर कोई समान रूप से शिक्षा प्राप्त करता है और जीवन में आगे बढ़ सकता है।

आरक्षण पर विवाद

हमारे देश में समय-समय पर आरक्षण पर विवाद होते रहे हैं बहुत से लोगों का मानना है कि आरक्षण गरीबी के आधार पर होना चाहिए जो व्यक्ति गरीब है उसके लिए आरक्षण होना चाहिए क्योंकि आजकल के जमाने में निम्न वर्ग या दलित वर्ग के लोग भी आरक्षण पाकर आगे बढ़ चुके हैं लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि आरक्षण ज्यों का त्यों होना चाहिए यानी यह जाति, धर्म और नारी के आधार पर ही होना चाहिए इसमें लोगों की अपनी-अपनी राय है इसी वजह से देश में कई तरह के विवाद भी होते रहे हैं।

आरक्षण से लाभ

वास्तव में आरक्षण से बहुत लाभ हैं आरक्षण से दलित वर्ग जो कि जीवन में आगे नहीं बढ़ पाते थे उनकी स्थिति मजबूत हुई है। आरक्षण की वजह से ही आज की नारी स्वतंत्र रूप से अपने अधिकारों को प्राप्त करके आगे बढ़ रही है वह कई तरह की कुप्रथाओं से बची है वास्तव में आरक्षण से कई तरह के लाभ हैं वास्तव में अगर आरक्षण का सही तरह से उपयोग किया जाए तो देश का तेजी से विकास हो सकता है।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Aarakshan essay in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *