गधा सिहार और शेर की कहानी stupid donkey story in hindi

दोस्तों काफी समय पहले एक गांव का गधा घूमते घूमते जंगल में चला गया दरअसल वह बहुत भूखा था वह खाने के लिए इधर उधर कुछ तलाश कर रहा था उसे सामने से एक लोमड़ी दिखाई दी तो वह भयभीत हुआ लेकिन लोमड़ी ने गधे को आवाज दी की गधे भैया गधे भैया रुको मैं तुम्हारी दोस्त जैसी हूं मैं तुम्हें कोई भी नुकसान नहीं पहुंचाऊंगी मेरे साथ रहो लोमड़ी की इस तरह की बातें सुनकर गधा बोला कि लोमड़ी मैं गांव का गधा हूं मुझे जंगल के नियमों के बारे में कुछ भी नहीं पता में तुम्हारे साथ कैसे रह सकता हूं. लोमड़ी बोली भैया हमको तुम्हारे जैसे ही एक जानवर की तलाश थी दरअसल इस जंगल में मुझे एक मंत्री की तलाश थी तुम चलो मैं तुम्हारी मुलाकात जंगल के राजा से करवाती हूं वो तुम्हें जरूर ही मंत्री पद प्रदान करेंगे.

लोमडी कि इस तरह की बात सुनकर गधा लोमड़ी के साथ जाने लगा इधर जंगल के राजा शेर ने बहुत दिनों से कुछ नहीं खाया था दरअसल शेर के कहने पर ही लोमड़ी कुछ शिकार लेने के लिए गई थी जैसे ही गधा शेर के पास पहुंचा शेर ने एक दम से ही हमला कर दिया लेकिन इतने में गधा शेर के हाथों से दूर भाग गया उसे बहुत दुख था उसने बहुत दिनों से कुछ खाया नहीं था इस वजह से वह ज्यादा दूर दौड़ भी नहीं पाया.इधर लोमड़ी गधे के पीछे गई और उस गधे के पास जाकर बोली कि गधा भैया तुम अचानक इतनी तेजी से क्यों भागे.गधा बोला उस राजा ने हमला कर दिया था वह मेरा शिकार करने वाला था इसलिए मैं भाग आया.

लोमड़ी बोली गधा भैया उसने तुम्हारे ऊपर हमला नहीं किया बल्कि वह तो तुम्हारे गले लगने वाला था चलो तुमको मैं दोबारा जंगल के राजा शेर के पास ले चलता हूं वह तुम्हें मंत्री पद प्रदान करेंगे तो गधा लोमड़ी की इस तरह की बातें सुनकर गधा और लोमड़ी के साथ दोबारा जाने लगा.इस बार गधा और लोमड़ी जैसे ही शेर के बहुत करीब आ गए तभी शेर ने उस गधे पर हमला किया और उसका मार डाला.लोमड़ी ने शेर से कहा कि शेर महाराज खाने से पहले आप जरा स्नान कराइए मैं तब तक आप के शिकार की देखभाल करटी हु. लोमड़ी के कहने पर शेर नदी के किनारे स्नान करने चला गया इधर लोमड़ी ने गधे का दिमाग खा लिया.शेर जब आया तो उसने देखा कि इसमें तो दिमाग ही नहीं है तो वह लोमड़ी पर चिल्लाते हुए बोला कि लोमड़ी इसका दिमाग किधर है तो लोमड़ी बोला कि गधे में दिमाग नहीं होता अगर इसमें दिमाग होता तो वह दोबारा आपके पास थोड़े ही आता.

इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि हमें दुश्मनों की मीठी मीठी बातों में नहीं आना चाहिए वरना बहुत नुकसान हो सकता है.

दोस्तों अगर आपको हमारा यह आर्टिकल stupid donkey story in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *