माता दुर्गा की सवारी सिंह कैसे बना Story of maa durga in hindi

Story of maa durga in hindi

maa durga ji ki kahani-दोस्तों कैसे हैं आप सभी, हम सभी जानते हैं कि माता दुर्गा की सवारी सिंह है आज हम यही जानेंगे कि आखिर माता दुर्गा की सवारी सिंह कैसे बना तो चलिए पढ़ते है हमारी आज की कथा को

Story of maa durga in hindi
Story of maa durga in hindi

पुराणों के अनुसार एक समय पार्वती और शिव शंकर जी कैलाश पर्वत पर बैठे हुए थे और एक दूसरे से मजाक कर रहे थे हंसी मजाक में शिव शंकर जी ने पार्वती जी को थोड़ा सा सांवला रंग होने के कारण काली कह दिया दरअसल शिव शंकर को पाने के लिए पार्वती जी ने घोर तपस्या की थी जिस वजह से उनका रंग थोड़ा सा सामला हो गया था जब शिव शंकर ने माता पार्वती को काली कहा तो माता पार्वती को बहुत बुरा लगा.वो तपस्या करने के लिए वहां से चली गई उन्होंने कई सालों तक तपस्या की.उस जंगल में एक सिंह रहता था माता पार्वती जी को वह अपना भोजन बनाने के लिए आया था लेकिन तपस्या में होने के कारण उस सिंह ने प्रतीक्षा करना ही उचित समझा.

सिंह कई सालों तक माता पार्वती के सामने यूं ही बैठा रहा तभी माता पार्वती की घोर तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव शंकर वहां पर आए और उन्होंने पार्वती जी से गंगा नदी में स्नान करने को कहा.पार्वती जी का गंगा नदी में स्नान करने के बाद रंग गोरा हो गया तभी से माता पार्वती को गौरी भी कहा जाता है.माता पार्वती जी ने सामने बैठे हुए उस सिंह को अपना वाहन बना लिया क्योंकि जिस तरह से वह तपस्या कर रही थी वह सिंह भी पार्वती को अपना भोजन बनाने के लिए तपस्या कर रहा था.माता पार्वती ने उसका धेर्य देखकर उसको अपना वाहन बना लिया और तभी से माता पार्वती दुर्गा के रूप में हमेशा सिंह पर विराजमान रहती हैं

दोस्तो हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल Story of maa durga in hindi  पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारी maa durga ji ki kahani केसी लगी जिससे इसी तरह के नये नये आर्टिकल लिखने के प्रति हमे प्रोत्साहन मिल सके.इसी तरह के नए-नए आर्टिकल सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारी किसी भी पोस्ट को आप छोड़ ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *