जिंदगी में भटकाव पर कविता Hindi poem on dislocation in life

जिंदगी में भटकाव पर कविता

दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज की हमारी कविता जिंदगी में भटकाव पर कविता आप सभी के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण कविताओं में से एक है दोस्तों मेरी इस स्वरचित कविता में मैंने कुछ ही शब्दों में जिंदगी में भटकाव से बचने के और जिंदगी में सफलता पाने के कुछ उपाय बताए हैं जो आपके बहुत ही काम आने वाले हैं अक्सर जब भी कोई इंसान सफलता पाना चाहता है तो उसके जिंदगी में कई बटकाव आते हैं अगर वह उन भटकाव के घेरे में फंस गया तो उसकी जिंदगी बर्बाद होने में ज्यादा समय नहीं लगता लेकिन वह अपने लक्ष्य को याद करते हुए जिंदगी में आगे बढ़ता जाये और मेहनत,लगन से काम करता जाये तो जीवन में सफलता उसके कदम चूमती है तो चलिए पढ़ते हैं हमारी आज की इस कविता को

जिंदगी में भटकाव पर कविता
जिंदगी में भटकाव पर कविता

जिंदगी में सफलता पाना है तो भटकाव से दूर रहना पड़ेगा
हर समय हर जगह बस अपने लक्ष्य को याद करना पड़ेगा
एक ही लक्ष्य को प्राप्त करने की कोशिश तुम जब तक करते रहोगे
सफलता के नजदीक तुम हमेशा पहुचते रहोगे

एक साथ कई लक्ष्यों को पाने की उम्मीद से भटक जाओगे
जिंदगी की जंजीरों में तुम जकड़ जाओगे
पाना है जिंदगी में कई लक्ष्यों को
तो पहले एक लक्ष्य को पाने की कोशिश तुम करो

पाकर दूसरे लक्ष्य के लिए कोशिश तुम करो
कुछ काबिल तो होते हैं लेकिन भटकाव के झरोखे से सफल ना होते हैं
लक्ष्य पाने के लिए आज से जुट जाओ तुम
भटकाव के झरोखे से दूर हो जाओ तुम

दोस्तो हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल जिंदगी में भटकाव पर कविता पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारी ये कविता केसी लगी जिससे इसी तरह के नये नये आर्टिकल लिखने के प्रति हमे प्रोत्साहन मिल सके.इसी तरह के नए-नए आर्टिकल सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारी किसी भी पोस्ट को आप छोड़ ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *