शिष्टाचार पर निबंध Essay on shishtachar in hindi

Essay on shishtachar in hindi

Essay on Good Manner in Hindi-हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी आज का हमारा आर्टिकल Essay on shishtachar in hindi आप सभी के लिए बहुत ही हेल्पफुल है अपने मन का उपयोग विद्यार्थी अपने स्कूल कॉलेज की परीक्षा में निबंध लिखने के लिए जानकारी ले सकते हैं और अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए भी इस निबंध का उपयोग कर सकते हैं तो चलिए पढ़ते हैं हमारे आज के शिष्टाचार के ऊपर लिखे गए इस निबंध को

Essay on shishtachar in hindi
Essay on shishtachar in hindi

एक व्यक्ति के द्वारा दूसरे व्यक्ति के प्रति अच्छा व्यवहार करना ही शिष्टाचार कहलाता है एक व्यक्ति का अच्छा गुण होता है अगर एक व्यक्ति शिष्टाचार के साथ कुछ भी करता है तो है जिंदगी में जरूर सफलता प्राप्त करता है एक इंसान की शुरुआत अपने घर से होती है उसके मां-बाप सबसे पहले उसे शिष्टाचार का ज्ञान कराते हैं मैं उसको दूसरों से अच्छा व्यवहार करने की सलाह देते हैं इसके बाद एक इंसान की मुलाकात अपने गुरु से होती है गुरु अपने शिष्यों को शिष्टाचार का और भी अच्छी तरह से ज्ञान कराते हैं उन्हें सही और गलत की समझ कर आते हैं कि अगर हमारे घर पर कोई मेहमान आए तो हमें किस तरह से उसके साथ पेश आना चाहिए हमें खुश होकर उनका दिल से अभिवादन करना चाहिए यही हमारा शिष्टाचार है हम देखें जो इंसान शिष्टाचार के साथ दूसरों से रिलेशन बनाता है वह अगर किसी भी तरह की मुसीबत में आता है तो बहुत सारे लोग उसकी मदद करने के लिए आगे आ जाते हैं लेकिन जिन में शिष्टाचार ही ना हो किसी मतलब का नहीं रहता हमें अपने बड़े बुजुर्गों को इज्जत देनी चाहिए माता बहनों का सम्मान करना चाहिए जैसे कि अगर हम किसी बस या रेल में जा रहे हैं और कोई बुजुर्ग व्यक्ति हमें खड़ा हुआ देखें तो हमें चाहिए कि हम खुद अपनी सीट से उठ कर उसे बैठने दें यही हमारे शिष्टाचार होते हैं.

अगर कोई व्यक्ति किसी भी तरह की पीड़ा से पीड़ित है और अगर हम उसकी मदद करते हैं उसे उपचार कराने के लिए अस्पताल में ले जाते हैं तो यही अच्छे शिष्टाचार हैं एक सही व्यक्ति की पहचान है आज के जमाने में बहुत से बदलाव आ रहे हैं जमाने में बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो ना तो अपने बड़े बुजुर्गों का सम्मान करते और ना ही अपने गुरु का माता बहनों का सम्मान करते धर्म पर दृष्टि डालते हैं ऐसे लोग शिष्टाचार के विपरीत होते हैं और अपने जीवन अमूल्य जीवन को बर्बाद करके कुछ भी नहीं कर पाते कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो घर पर आए मेहमानों का तिरस्कार करते हैं यह हमारे संस्कारों के विपरीत है हमें शिष्टाचार अपनाना चाहिए पहले के जमाने में हम अक्सर देखा सुना करते हैं कि कोई इंसान अपने बड़े बुजुर्गों की बात हर हालत में मानता था वह अपने द्वार पर आए हुए अतिथि को कभी खाली हाथ नहीं जाने देता था वह हमेशा अपने वचनों का पालन करता था यह एक शिष्टाचार की निशानी है लेकिन आज के जमाने में बहुत कुछ बदला है बहुत से लोग ऐसे हैं जो शिष्टाचार अपनाते हैं लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो शिष्टाचार को बिल्कुल भी नहीं अपनाते हैं बिल्कुल ही इसके विपरीत हैं उनके जीवन में बहुत सी परेशानियों का सामना उन्हें करना पड़ेगा.

Related- शिक्षा का अधिकार पर निबंध Hindi essay on shiksha ka adhikar

जीवन में हमें हमेशा समझना चाहिए जैसा हम करते हैं वैसा ही हमारे परिवार वाले हमारे बच्चे करते हैं अगर हम अच्छा करते हैं शिष्टाचार के साथ किसी से अच्छा व्यवहार बनाते हैं तो हमारे बच्चे भी हमसे या हमारे बड़े बुजुर्गों से या किसी से भी आगे अच्छा व्यवहार बनाएंगे लेकिन अगर हम भी गलत होंगे और शिष्टाचार नहीं अपनाएंगे तो हम हमारे बच्चों से उम्मीद ना ही रखें तो अच्छा होता है लेकिन इंसान खुद नहीं बदलना चाहता है दूसरों को बदलना चाहता है यह तो बिल्कुल भी सही नहीं है हमारे देश में गुरु की सबसे ज्यादा इज्जत की जाती थी उनकी हर आज्ञा का पालन किया जाता था लेकिन आज कल कहीं पर ऐसा भी देखा जाता है कि लोग गुरु से सही से शिष्टाचार से बात तक नहीं करते यह हमारे संस्कृति के खिलाफ है हमारी शिष्टाचार के विपरीत है हम हमारे आने वाले भविष्य को अंधकार में करने वाले हैं क्योंकि यह हमारे देश के लिए हमारे समाज के लिए सही नहीं है परिवार में हर रिश्ते में शिष्टाचार होना चाहिए दोस्तों के व्यवहार में भी शिष्टाचार होना चाहिए और भाई बहनों के रिश्ते में भ्रष्टाचार होना चाहिए अगर हम वाकई में शिष्टाचार अपनाते हैं और दूसरों को भी अपनाने की सलाह देते हैं तो यकीनन हमारे समाज का हमारे देश का विकास होता है.

आजकल हम देखें तो बहुत से परिवारों में रिश्ते बिगड़ते जाते हैं परिवार बिखरते जाते हैं परिवार वाले अपने बड़े बुजुर्गों के साथ शिष्टाचार से व्यवहार नहीं करते जिस वजह से एकल परिवार बनते जाते हैं और परिवारों परिवारों को बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है ऐसा होता है क्योंकि वह अपने जीवन में शिष्टाचार को पूरी तरह से नहीं अपनाते अगर एक इंसान शिष्टाचार को अपनाए तो वह जीवन में जरूर ही इन परेशानियों से निकल सकता है और जीवन में सफल हो सकता है अगर आप अपने परिवार वालों से अपने समाज वालों से शिष्टाचार के साथ प्रेम से बात करते हैं तो यकीनन आप यदि किसी मुसीबत में फंसते हैं तो सभी आपकी मदद करने के लिए आगे आ सकते हैं लेकिन अगर आप सदाचार के विपरीत है और उसे नहीं अपनाते तो आपकी मदद के लिए कोई भी नहीं आएगा इसलिए हमें हमेशा सस्ता 4 अपनाना चाहिए और जीवन में आगे बढ़ते जाना चाहिए.

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल Essay on shishtachar in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंट के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल Essay on shishtachar in hindi कैसा लगा इसी तरह के अगले आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब करना ना भूलें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *