राम प्रसाद बिस्मिल प्रसंग Ram prasad bismil prasang

Ram prasad bismil prasang

काफी समय पहले की बात है रामप्रसाद बिस्मिल जी को एक जेल में बंद किया गया था और उनकी सुरक्षा के लिए की वो भाग ना सके एक सिपाही तैनात किया गया था.रात का समय था सिपाही की आंख लग चुकी थी तभी राम प्रसाद बिस्मिल ने भागने का विचार बनाया उन्होंने उस सिपाही को जगाया और कहा कि क्या तुम आने वाली आपत्ती से अवगत हो ऐसा सुनकर उस सिपाही को कुछ समझ आया उसने राम प्रसाद बिस्मिल से कहा कि कृपया कर आप यहां से मत भागिए अगर आप यहां से भाग गए तो आपके भागने के जुर्म में में गिरफ्तार हो जाऊंगा,मेरे बीवी बच्चे भूखे मर जाएंगे कृपया कर आप यहां से मत भागिए.

राम प्रसाद बिस्मिल प्रसंग प्रसंग
राम प्रसाद बिस्मिल प्रसंग प्रसंग

image source- http://celebritiesgallery.in/ram-prasad-bismil-pictures-photos-wallpaper-wiki.html

राम प्रसाद बिस्मिल को दया आ गई वह चाहते तो उस समय भाग सकते थे लेकिन उन्होंने भागने का प्रयत्न नहीं किया और जब रामप्रसाद बिस्मिल शौचालय गए तो सिपाही ने उनको ऐसे ही छोड़ दिया तभी किसी दूसरे सिपाही ने कहा कि ये भाग जाएंगे तो वह सिपाही कहने लगा मुझे उनपर विश्वास है वो नहीं भागेंगे वास्तव में रामप्रसाद बिस्मिल चाहते तो वहां से भाग सकते थे लेकिन उन्होंने अपने दूसरे मौके का भी उपयोग नहीं किया और वह वहां से नहीं भागे क्योंकि वह किसी का विश्वास नहीं तोड़ना चाहते थे वाकई में ऐसे महान इंसान इस दुनिया में बहुत ही कम जन्म लेते हैं जो अपने उसूलों पर चलते हैं और दूसरों का विश्वास कभी नहीं तोड़ते.हम सभी को भी कभी भी दूसरों का विश्वास नहीं तोड़ना चाहिए.
दोस्तों अगर आपको हमारा ये प्रेरणादायक Ram prasad bismil prasang पसंद आया हो तो कृपया कर इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा.अगर आप चाहे हमारे अगले आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाना तो हमें सब्सक्राइब जरूर करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *