मीठी वाणी पर कविता Meethi vani poem in hindi

Mithi boli poem in hindi

Hindi poem on madhurvani-दोस्तों जीवन में मीठी वाणी का बड़ा ही महत्व है जिसके पास सब कुछ है लेकिन वह मीठी वाणी नहीं बोलता उस इंसान के पास सब कुछ होते हुए भी कुछ भी नहीं होता.इंसान अपनी मीठी वाणी से सब कुछ कर सकता है वह जीवन में सफल हो सकता है साथ में अपने परिवार,रिश्तेदार,दोस्तों के साथ एक अच्छा संबंध स्थापित कर सकता है जिससे वह अपना जीवन बहुत ही अच्छी तरह से गुजार सकता है.मीठी वाणी में एक ऐसा स्वाद होता है जो सबसे मीठा होता है आज हम मीठी वाणी पर ही मेरे द्वारा लिखित एक कविता पढ़ेंगे तो चलिए पढ़ते हैं

मीठी वाणी पर कविता
मीठी वाणी पर कविता

दिखने में कोई कितना भी बुरा क्यों ना हो लेकिन मीठी वाणी से वो बस सबके लिए मीठा ही मीठा बन जाता हैं.

किसी चीज का स्वाद फीका क्यों ना हो लेकिन मीठापन डालने से वो मीठा ही मीठा बन जाता हैं.

किसी के जीवन में कितना भी दुःख क्यों ना हो लेकिन एक मीठी वाणी से जीवन मीठा ही मीठा बन जाता है.

कोई गरीब क्यों ना हो लेकिन एक मीठी वाणी से वो पैसे वाला भी बन जाता है.

कोई कितना भी बुरा क्यों ना हो लेकिन मीठी वाणी से वो एक अच्छा इंसान भी बन जाता है

किसी के संबंध बुरे क्यों न हो लेकिन मीठी वाणी से वह मीठे ही मीठे बन जाते हैं

कोई कितना भी कठोर क्यों ना हो लेकिन एक मीठी वाणी से वो मीठा ही मीठा बन जाता है.

दोस्तों अगर आपको हमारी ये कविता Meethi vani poem in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको ये कविता Hindi poem on madhurvani कैसी लगी.अगर आप चाहें तो हमारे अगले आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *