अंगदान पर निबंध “organ donation essay in hindi”

organ donation essay in hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज की हमारी ये पोस्ट अंगदान पर निबंध आप सभी के लिए बहुत ही प्रेरणादायक साबित होगी,दोस्तों अंगदान करना वाकई में एक बहुत ही पुन्य का काम होता है,हम सभी को कम से कम मरने के बाद तो अंगदान करना चाहिए,

organ donation essay in hindi

अंगदान से उन लोगों का भला हो सकता है जो लोग आज बहुत सारी परेशानियों से जूझ रहे हैं,कुछ लोग हैं जो आंखों से देख नहीं सकते,कुछ लोग हैं जिनकी किडनी खराब है किसी का हृदय काम नहीं करता,किसी के टिश्यू काम नहीं करते.

हमें ऐसे लोगों की मदद करना चाहिए,अंगदान वाकई में बहुत सारे लोगों की मदद कर सकता है,अंगदान करके हम किसी दुसरे व्यक्ति की आँखों में उजाला कर सकते है,किसी दुसरे को लम्बे समय तक जीवित रहने में मदद कर सकते है,किसी के होंठो पर मुस्कान ला सकते है.अंगदान करना एक पुन्य का काम है इससे बढ़कर पुन्य कुछ हो ही नहीं सकता.
दोस्तों आज हमारे देश मैं बहुत सारे ऐसे लोग  है जो अपने अंगों को दूसरों को दान कर देते हैं लेकिन फिर भी हमारे देश में अंगो की कमी की समस्या आती है,बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो अपने अंगो की वजह से,खराब होने की वजह से जिंदगी में परेशानी का सामना कर रहे हैं,वोह भी जीवित रहना चाहते है,दुनिया को अपनी आँखों से देखना चाहते है इसलिए हमें ऐसे लोगों की मदद करना चाहिए.

अंगदान करना कानूनी है क्योंकि अंगदान से दूसरों का भला होता है,बहुत सारी भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही वेबसाइट है जिसके द्वारा हम अंगदान के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते है.हम अगर मरने के बाद भी अंग दान करना चाहे तो उसके लिए भी रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं यह तो पुण्य का काम है हमें इस ओर अग्रसर होना चाहिए.बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो बहुत सारे लोगों से उम्मीद की गुहार लगाए रहते हैं,अंग ना होने की वजह से हमारे देश में बहुत सी ऐसी समस्याएं आती हैं कि लोग लाखों रुपए में भी अंगो को खरीद लेते हैं लेकिन किसी के द्वारा अगर किसी के जबरन अंगों को चुराया जाता है या उसे अंगदान करने के लिए मजबूर किया जाता है तो यह एक जुर्म होता है क्योंकि इससे सामने वाले को बहुत सारी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.
हमारे देश में बहुत सारे ऐसे धर्म है जो अंगदान करने के लिए कहते हैं इसे पुण्य का काम समझते हैं ज्यादातर धर्मों ने ऐसा कहा है लेकिन फिर भी कुछ ऐसे धर्म है जो इसको गलत बताते हैं,जब कोई व्यक्ति जिंदा होता है और उसको अंग दान करना हो तो डॉक्टर द्वारा उसको पूर्ण रूप से चैक किया जाता है,वह उसकी मानसिक स्थिति को भी चेक करते हैं कि सामने वाला व्यक्ति अपनी इच्छा से अंग दान कर रहा है या नही.
आप अंगदान जरुर करिए लेकिन पहले ये जरुर समझ ले की अगर आपको कोई गंभीर बीमारी है तोह आप अंगदान ना करे,जैसे की मधुमय,एचआईवी,ह्रदय एवं गुर्दे की बीमारिया,टीवी आदि की बीमारयो में अंगदान नहीं करना चाहिए.

डॉ.अंगदान से पहले यै भी चेक करते हैं कि इसके दान किए जाने बालै अंगों में कोई प्रॉब्लम तो नहीं है,यह सब पुश्ती करने के बाद ही वह अंगदान करवाते हैं और अगर कोई व्यक्ति मृत है तो उसके पूरे परिवार की सहमति ली जाती है तभी अंगदान होता है और साथ में उस मृत व्यक्ति का भी चेकअप किया जाता है कि उसके अंग सही सलामत हैं या नहीं,तभी अंगदान करवाया जाता है.मृत व्यक्ति के अंग उसके शरीर से जल्दी ट्रांसप्लांट होना चाहिए,और अंगो को शरीर से बहार निकालने के बाद एक विशेष प्रकार के बॉक्स में रखा जाता है और एक समय की अवधि होती है,डॉ को उसी अवधि में अंगो को किसी दुसरे के शरीर में ट्रांसप्लांट करना होता है.

दोस्तों वाकई में दान तो बहुत सै लोग करते हैं लेकिन मेरे ख्याल से अंग दान सबसे बड़ा दान होता है क्योंकि अगर आप किसी को उजाला दे सको,आप किसी को जिंदगी दे सको आप किसी को दिल की धड़कन दे सको तो इससे बड़ा दान तो कोई हो ही नहीं सकता,आपको सामने वाला व्यक्ति दुआएं देता है,दोस्तों अगर किसी को भी अंगदान देना है तो उसको अपनी मर्जी से देना चाहिए इसका एक कारण है क्योंकि अंगदान दूसरों को खुशी देने के लिए किया जाता है लेकिन अगर उसको देने के बाद आप ही खुश नहीं होते तो अंगदान करने से कोई मतलब नहीं निकलता,आप अंगदान करें लेकिन अपनी इच्छा से करे.

हमारे देश में अंगदान की जागरूकता को फेलाने के लिए प्रतिवर्ष १३ अगस्त को अंगदान दिवस मनाया जाता है,जिसका मकसद यही है की लोग अंगदान के प्रति जागरूक हो,लोगो को म्रत्यु के बाद तो अंगदान करना चाहिए क्योकि इससे दुसरो की जिन्दगी में उजाला होता है.
अंगदान करने के लिए कोई निश्चित उम्र नहीं होती,अंगदान कभी भी कर सकते है,अंगदान किसी भी धर्म,जाति के व्यक्ति कर सकते है,क्योकि ये तोह पुन्य का काम है.इसमें कोई भेदभाव नहीं है.स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने भी सभी लोगो को ये आग्रह किया है की सभी अंगदान करे जिससे हम हजारो लोगो की जान बचा सके.
अगर आपको हमारा ये आर्टिकल organ donation essay in hindi पसंद आये तोह इसे शेयर जरुर करे.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *