लोमड़ी और कौवा lomdi aur kauwa ki kahani

दोस्तों कुछ कहानिया बहुत छोटी होती है लेकिन वोह हमें अपने जीवन में काफी कुछ सीख डे जाती है,आज की हमारी ये कहानी भी कुछ ऐसी ही है जो आप सभी को  बहुत कुछ सिखाएगी.
दोस्तों एक कौवे को कही से एक रोटी मिल गयी,वोह पेड़ पर बैठकर उस रोटी को मजे से खा रहा था,उसे रोटी खाने में बड़ा ही आनंद आ रहा था,पेड़ के पास से ही एक लोमड़ी गुजर रही थी,उस कौवे को रोटी खाते देख उस लोमड़ी के मुह से लार टपकने लगी उसने सोचा की किसी तरह इस कौवे की रोटी मेरे मुह में आनी चाहिए

उसने सोचा क्यों ना कुछ ऐसा किया जाए की ये रोटी खुद व खुद अपने मुह से छोड़ दे,तभी उस लोमड़ी के दिमाग में एक आइडिया आया,उसने उस कौवे से कहा-ओ कौवा भैया तुम्हारी आवाज तोह बड़ी प्यारी है,कल जब तुम अपनी आवाज में गा रहे थे तोह में सुन रही थी,वाकई में तुम्हारी आवाज मुझे सबसे प्यारी लगती है,तुम कृपया कर मुझे अपना गाना एक बार और सुनाओ.

कौवे ने सोचा वाओ मेरी आवाज भी किसी को पसंद आती है,उसने तुरंत ही गाने का निश्चय किया लेकिन गाने की धुन में वोह भूल गया की उसके मुह में रोटी रखी हुयी है,उसके मुह से रोटी छूट गयी,और वोह रोटी पेड़ से नीचे गिर कर उस लोमड़ी के मुह में आ गयी,और लोमड़ी उस रोटी को लेकर भाग गयी,बेचारा वोह कौवा चिल्लाता रहा.उस कौवे को अपनी इस बात पर बड़ा ही पछतावा होता है.

दोस्तों अक्सर हमारे जीवन में भी कुछ ऐसा ही होता है,कुछ लोग हमारी झूटी तारीफ़ करके हमें बेवकूफ बनाते है,लेकिन हमें इन छली लोगो से हमेशा सावधान रहना चाहिए,और कुछ भी करने से पहले हमें अच्छे से सोचना चाहिए वरना हो सकता है हमारे पास जो है वोह भी हमारे हाथ से चला जाए.

अगर आपको ये पोस्ट lomdi aur kauwa ki kahani पसंद आई हो तोह इसे शेयर जरुर करे और हमारी अगली पोस्ट सीधे अपनी email id पर पाने के लिए हमें subscribe करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *