जो जीता वही सिकंदर “king sikandar story in hindi”

दोस्तों आज की हमारी पोस्ट king sikandar story in hindi काफी महत्वपूर्ण है,आज हर इंसान अपनी जिंदगी में सफलता हासिल करना चाहता है और कुछ लोग तो इस सफलता असफलता के खेल को खेलते हुए कुछ ऐसे डायलॉग भी बोल देते हैं

जिनके बारे में उनको सही से जानकारी नहीं होती,आपने यह डायलॉग अक्सर सुना होगा जो जीता वही सिकंदर,दोस्तों क्या आपको पता है कि सिकंदर कौन था? क्या आपको पता है कि सिकंदर ने हमारे भारत देश से जीत हासिल नहीं की बल्कि वह हमारे देश से हार चुका था फिर भी हम क्यों कहते हैं कि जो जीता वही सिकंदर.

ये एक सवाल है.दरअसल सिकंदर एक ऐसा योद्धा था जिसको उसके गुरु अरस्तु ने पूरी दुनिया को जीतने का सपना दिखाया था,दरहसल अरस्तु एक वैज्ञानिक है जिनके बारे में हम विज्ञान में अक्सर पढते है,सिकंदर ने पूरी दुनिया को जीतने का लक्ष्य बना लिया था और अपनी काबिलियत के दम पर पूरी दुनिया को जीत लिया था,उसने बड़े-बड़े देशों को भी हरा दिया था,वह एक महान योद्धा था लेकिन जब भारत देश से उसका मुकाबला हुआ तो उसने कुछ राज्यों को तो जीत लिया था लेकिन पूरे देश को नहीं जीत सका.वह हमारे देश से हार गया था और जब वह पहली बार हारा तो वापस जाकर वह 1 दिन सो रहा था उसे तेजी से बुखार आया या तबीयत खराब हुई और अगले दिन वह मर गया,जब उसकी अर्थी को ले जा रहे थे तो उसके दोनों हाथ बाहर निकले हुए थे तो किसी ने पूछा की यह तो एक महान योद्धा का अपमान है,आपने उसके हाथ बाहर क्यों निकाले हैं तो एक व्यक्ति कहने लगा की सिकंदर की आखरी इच्छा यही थी.

जब उनकी कुछ ज्यादा तबीयत खराब हुई तो उन्होंने मुझे अपने पास बुलाया और कहां कि मैं जब भी मरूं तो मेरे दोनों हाथ मेरी अर्थी से बाहर निकाल देना जिससे सभी लोगों को पता चल सके की सिकंदर ना तो कुछ साथ में लेकर आया था और ना ही कुछ साथ में लेकर जा रहा है.सिकंदर के इस महान विचार से सभी बहुत ही प्रभावित हुए.वह सचमुच एक बहुत ही महान योद्धा था उसने पूरे जग को जीत लिया था लेकिन वोह हमारे भारत देश से हार गया था.

सोचिये फिर भी हम क्यों ऐसा कहते हैं कि जो जीता वही सिकंदर.दरअसल देश दुनिया के लेखक इस बात को नहीं मानते कि इतना बड़ा तेजस्वी सिकंदर भारत से कैसे हार सकता है और दूसरी बात यह भी है की उसने आखरी पल में जो बात कही की वह अपने साथ कुछ भी लेकर नहीं गया.कहने का मतलब है उसके आखिरी पल के विचार सभी को बहुत ही प्रभावित कर गए.

कुछ लोग इसलिए भी कहते हैं कि जो जीता वही सिकंदर.क्योकि उसने भले ही हमारे भारत देश से जीत हासिल नहीं की लेकिन दुनिया में एक ऐसा कारनामा कर दिखाया की आज हर इंसान कहता है जो जीता वही सिकंदर.

दोस्तों वाकई में हार हो तो ऐसी हो की सामने वाला इंसान हमारी हार की बात सुनकर भी हमारी हार ना मान सके. अगर आपको हमारी यह पोस्ट king sikandar story in hindi पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारी अगली पोस्ट सीधे अपने ईमेल id पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *