ghar me sukh shanti ke upay in hindi परिवार में एक साथ मिलजुलकर कैसे रहे

दोस्तों आज हम चारो तरफ देख रहे है की आज दुनिया में बहुत सारे बदलाव आ रहे है,लोगो के बीच हम देखते है की पहले जहाँ संयुक्त parivar हुआ करते थे,वही एकल parivar हो चुके है,ज्यादातर लोग अकेला रहना पसंद करते है,मुझे लगता है की जिस तरह से प्राचीनकाल से अभी तक हमारे फेशन में बदलाव हुआ है,उसी तरह हमारे संयुक्त parivar से अलग होना एक फेशन ही बन गया है.

आज से कुछ समय पहले जब हम बदरवास रहा करते थे तोह एक दिन मेरे भाई किसी काम के वजह से बहार गए थे,हमारे घर पर एक चक्की लगी हुयी है,तोह मैंने देखा की पास ही के गाव की एक बूदी औरत गेहू पिसवाने आई,हमारी चक्की पर लग रहे नौकर ने उनकी पल्ली पीसी,मैंने उन अम्मा से कहा अम्मा जी आपकी इतनी उम्र हो चुकी है फिर भी आप पल्ली डालने आती हो,आप अपने किसी लड़के को भेझ देती 

इस पर वोह बूदी अम्मा कहने लगी की बेटा मेरे चार लड़के है,सभी लड़को की शादी हो गयी है वोह अब अलग हो गए है,अपने अपने काम पर है,इसलिए मुझे पल्ली खुद लेकर आना पडी.

दोस्तों आप यकीं नहीं करोगे इतनी बात सुनकर मेरी आखो में आँसू थे,मैंने सोचा देखो कैसा ज़माना है,इस जमाने में एक बेटा अपने मा बाप को दो वक़्त का खाना नहीं देता.

दोस्तों काश ऐसा होता सभी लोग मिलजुलकर प्रेम से रहते लेकिन मुझे ऐसा लगता है की शायद ये एक सपना ही रह जाएगा,लेकिन में अपनी वेबसाइट के द्वारा उन लोगो को कुछ बताना चाहता हु,दोस्तों में ऐसे लोगो से कहना चाहूँगा की अपने मा बाप को इस तरह से अकेला छोड़ देना,अपनी जिम्मेदारी से भागना है,अब ये तोह सरासर गलत है,हमारे भारत के क़ानून में इसके प्रति कुछ सक्त नियम होना चाहिए.

जो अपने परिवार के साथ मिलजुलकर रहना चाहते हैउन्हें में सलाह देना चाहूँगा की परिवार में एक साथ मिलजुलकर कैसे रहे-

परिवार में कैसे रहे

(1)दोस्तों परिवार से अलग रहने का सबसे बड़ा कारण है अपने बडे बुजुर्गो का आदर ना करना है,अगर आपको अपने परिवार के साथ रहना है तोह अपने बड़े बुजुर्गो को सम्मान देना सीखे,उनकी बात मानना सीखे,जिस घर में बड़े लोगो का सम्मान नहीं होता है,वोह घर शीर्घ ही बिखर जाता है.

(2)छोटो से प्रेम करना सीखे-हमारे घर में जो छोटे लोग है उनसे प्रेम करे,अगर कोई सलाह देनी हो तोह वोह प्यार से समझाए.

(3)कुछ भी काम अपने माता पिता या फिर बड़े लोगो से सलाह लेकर ही करे.

(4)अगर कोई कुछ भी गलत करता है तोह उसे प्रेम से समझाए क्योंकी मुझे लगता है की जो काम प्रेम से है वोह कभी लड़ाई से नहीं हो सकता.

(5)कुछ भी लाये तोह वोह अपने पूरे परिवार को दे,अगर आप घर के एक सदस्य को देते हो तोह इससे जलन पैदा होती है,इसका ध्यान रखे.

(6)अपने माता पिता या बड़े लोगो की बात काटना बिलकुल भी ना सीखे,अगर आपको कुछ बात कहना है तोह उसका कारण बताये.

(7)हमको समझना चाहिए की आज हम अपने मा बाप की इज्जत नहीं करेंगे या फिर उनसे दूर रहेंगे तोह जाहिर सी बात है की हमारे बच्चे भी ये संस्कार अपने jeevan में अपनाएंगे और वोह भी आपकी ना तोह इज्जत करेंगे और ना ही आपके पास रहेंगे.क्योकि कोई भी इन्सान संस्कार अपने घर के माहोल से सीखता है.सलाकार-अरुण नामदेव जी.

(8)अगर आप कुछ work करते है तोह उससे प्राप्त आमदनी को अपने मा बाप को सोपे,इससे उनकी नजर में बच्चो के प्रति प्रेम जाग्रत होता है.

इन्हे भी पढ़े- ameer kaise bane in hindi अमीर कैसे बने

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *